राम मंदिर भूमि पूजन

कार्ति ने राम मंदिर का विरोध करते हुए कहा कि भारत में किसी और नए पूजा स्थल की जरूरत नहीं है। उन्होंने ट्वीट कर यह बात कही। ट्वीट में उन्होंने पांच अगस्त को होने वाले राम मंदिर भूमिपूजन के समय को लेकर भी सवाल किया।

एक सप्ताह में यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य दोबारा अयोध्या पहुंचे हैं। इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी अयोध्या जाकर राम मंदिर तैयारियों का जायजा ले चुके हैं।

अपनी बात खत्म करते हुए विनोद बंसल ने भूमि पूजन का विरोध करने वालों को कहा कि, "पूजन तो होकर रहेगा, चाहे तुम्हारी सूजन और बढ़ जाए।"

आपको बता दें कि पीएम मोदी 5 अगस्त को अयोध्या जाएंगे। वहां वह राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी जब 5 अगस्त को राम मंदिर की आधारशिला रखेंगे उसी के बाद से मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा।

इसके अलावा अयोध्या शोध संस्था के तहत 16.8 करोड़ रुपये से तुलसी स्मारक भवन के आधुनिकीकरण कार्य का शिलान्यास भी किया जाएगा। यह परियोजना संस्कृति विभाग द्वारा चलाए जाने का प्रस्ताव है।

इस याचिका में कहा गया है कि अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के दौरान तीन सौ लोग इकट्ठा होंगे जो कि कोविड के नियमों के खिलाफ होगा।

विश्व हिंदू परिषद उपाध्यक्ष और श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के महासचिव चंपत राय के मुताबिक, आम भारतीय को भावनात्मक रूप से श्री रामलला मंदिर निर्माण के साथ जोड़ने के लिए तन-मन-धन से जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है।

कोरोना संकट को देखते हुए देशभर में लॉकडाउन के तीसरेे फेज को लागू किया गया है। हालांकि इस फेज में लोगों को जोन के हिसाब से छूट दी गई है, जिसमें निर्माण कार्य भी किए जा सकते हैं।