रीयल एस्टेट

इसी तरह 'मिलेनियल सिटी' कहलाने वाले शहर गुरूग्राम में कुछ सबसे बड़े विश्वस्तरीय एवं घरेलू उद्यम हैं। देश की राजधानी तथा अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के नजदीक होने के कारण यह क्षेत्र अधिकतर सॉफ्टवेयर पेशेवरों के लिए सुलभ है।

दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले ज्यादातर लोग आसपास के इलाकों में ही घर खरीदना चाहते हैं। इनमें से 38% ऑफिस और स्कूल की निकटता को ध्यान में रखकर घर चाहते हैं, जबकि 62% लोग नजदीक के उपनगरीय इलाकों में निवेश करना चाहते हैं।

जीएसटी काउंसिल ने रीयल एस्टेट के क्षेत्र में जीएसटी की दर को नरम बनाने के लिए बिल्डरों को 1 अप्रैल, 2019 से इनपुट टैक्स छूट के बिना आवासीय इकाइयों पर 5 प्रतिशत एवं सस्ते मकानों पर 1 प्रतिशत की दर से जीएसटी लेने की अनुमति दे दी थी।

यह एक नॉन-रिफंडेबल फीस है जो आम तौर पर लोन अमाउंट के 0.25% से 2% के आसपास होता है जिस पर लागू टैक्स भी देना पड़ता है।

कंपनी पहले चरण में दस लाख वर्ग फुट में 'अर्बन स्क्वायर' के नाम से परियोजना विकसित कर रही है। भूमिका समूह के निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी उद्धव पोद्दार ने कहा, ''हम उदयपुर में अपनी पहली रीयल एस्टेट परियोजना विकसित कर रहे हैं।

बता दें कि रीयल एस्टेट क्षेत्र में रीयल एस्टेट नियमन और विकास कानून (रेरा) 2016 को एक मई 2017 से लागू किया गया था। सबसे पहले महाराष्ट्र सरकार ने 'महा रेरा' नाम से राज्य में इस कानून को लागू किया था।

जीएसटी काउंसिल ने एक ट्वीट में कहा कि, "आवासीय अचल संपत्ति परियोजना के लिए पुरानी जीएसटी दरों (आईटीसी के साथ 8 फीसदी या 12 फीसदी) या फिर नई जीएसटी दरों (बिना इनपुट टैक्स क्रेडिट के साथ 1 फीसद या 5 फीसद) के विकल्प का उपयोग करने की तारीख को 10 मई से बढ़ाकर 20 मई 2019 किया जा रहा है।"

अब ऐसे में आम्रपाली समूह की धोखाधड़ी में फंसे निवेशकों में आशा की नई किरण जगी है। मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त फारेंसिक ऑडिटरों ने न्यायालय से कहा है कि विभिन्न स्रोतों से लगभग 11 हजार करोड़ रुपये जुटाए जा सकते हैं, जो अधूरे परियोजनाओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त से अधिक है।

प्रॉपर्टी की तलाश सबको होती है और सभी अपने सपने का घर लेना चाहते है। घर खरीदने के लिए ऐसे में बात सबसे पहले आती है धनराशि की।

लोगों में प्रॉपर्टी खरीदने की होड़ लगी है। ऐसे में लोग सस्ते किफायती घर की तलाश करते है ताकि उन्हें उनके सपनों का आशियाना कम से कम रेट पर मिल सकें।