रूई

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कॉटन के भाव में इस साल आई भारी गिरावट का मुख्य कारण अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापार जंग है। अमेरिका दुनिया का सबसे बड़ा कॉटन निर्यातक है जबकि चीन कॉटन का एक बड़ा आयात देश है। दुनिया में सबसे ज्यादा कॉटन की खपत चीन में होती है।

देश में इस साल रूई का उत्पादन 315 लाख गांठ होने का अनुमान है और देश में कुल आपूर्ति 374 लाख गांठ रह सकती है, जिसमें ओपनिंग स्टॉक 28 लाख गांठ और आयात 31 लाख गांठ शामिल है।