रूस

एक हालिया दुर्घटना के बाद अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से पहला चालक दल मंगलवार को धरती पर लौट आया। प्रक्षेपण के दौरान हुए हादसे के बाद रूसी अंतरिक्ष कार्यक्रम की वापसी को लेकर संशय बना हुआ था।

जी20 शिखर सम्मेलन में अमेरिका की घेराबंदी करने के लिए चीन भारत और रूस की मदद ले सकता है। जापान के ओसाका में इस हफ्ते होने वाले जी20 शिखर सम्मेलन में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अमेरिका की एकतरफा व्यापार नीतियों पर चर्चा करेंगे।

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि रूस किसी भी ऐसे नए ब्रिटिश प्रधानमंत्री के साथ काम करने के लिए तैयार है जो उसके साथ सहयोग करने का इच्छुक हो।

पीएम मोदी ने गुरुवार को यहां एससीओ शिखर बैठक से अलग पुतिन के साथ द्विपक्षीय बातचीत की और दोनों नेताओं ने कहा कि विश्वास पर आधारित पुराने रिश्ते को और मजबूत बनाने की जरूरत है।

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग इन दिनों रूस के मॉस्को शहर में हैं। कहा जा रहा है कि चीन और रूस के बीच की दोस्ती नए सिरे से शुरू होने जा रही है। 2014 में क्राइमिया संघर्ष के बाद पश्चिमी देशों के असहयोग के बाद से रूस और चीन के बीच काफी व्यापार बढ़ा है और इससे चीन को काफी फायदा हुआ। हालांकि, सबका ध्यान खास तौर पर 2 विशेष पांडा पर है, जिसे चीनी प्रतिनिधिमंडल तोहफे में रूस को देने के लिए ले गया है।

चोट के चलते ही वह इस महीने इटेलिन ओपन टेनिस टूर्नामेंट में भी नहीं खेल पाई थी। दो बार की रोला गैरां चैंपियन शारापोवा ने इंस्टाग्राम पर बताया कि वह 26 मई से शुरू होने वाले फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट में भाग लेने नहीं जा रही हैं।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पोम्पियो से कहा, "हमने अपनी ओर से बार-बार कहा है कि हम भी संबंध को पूर्ण रूप से बहाल करना चाहेंगे। मुझे उम्मीद है कि अब इसके लिए आवश्यक परिस्थितियां बन रही हैं।"

जापान के ओसाका में जून के अंत में होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान दोनों नेताओं की मुलाकात की घोषणा ऐसे समय में हुई है जब दोनों देशों के बीच हथियार नियंत्रण, वेनेजुएला, यूक्रेन और ईरान के मुद्दों पर मतभेद हैं।

आतंकवाद पर बेनकाब हो चुका पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। खुफिया एजेंसियों ने सुरक्षा महकमे में एक रिपोर्ट दी है, जिसके मुताबिक पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई रूस में मौजूद कुछ स्थानीय निवासियों की मदद से कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत विरोधी गतिविधियों को फैलाने में जुटी है।

कंपनी ने रूस से संचालित 21 फेसबुक अकाउंट, पेज और इंस्टाग्राम अकाउंट भी हटा दिए जो ऑस्ट्रिया, बाल्टिक देशों, जर्मनी, स्पेन, यूक्रेन और इंग्लैंड पर ध्यान देते थे। अभियान चलाने वाले लोग आव्रजन, धार्मिक मुद्दे और नाटो से संबंधित स्थानीय राजनीति से संबंधित कंटेंट पोस्ट करते थे।