लद्दाख

आपको बता दें कि जम्मू कश्मीर से लद्दाख के अलग होने पर सवाल ये भी है कि आखिर इन दोनों केंद्र शासित राज्यों में कारगिल किसका हिस्सा होगा। आपको बता दें कि 1999 में भारत-पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध का गवाह बना कारगिल अब लद्दाख का हिस्सा होगा।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में अनुच्छेद 370 को हटाने का संकल्प पेश किया। यह अनुच्छेद जम्मू एवं कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करता है। संकल्प पेश होते ही सदन में हंगामा शुरू हो गया।

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की नेता महबूबा मुफ्ती ने संविधान की धारा 370 को खत्म करने के मोदी सरकार के फैसले को 'भारतीय लोकतंत्र का सबसे काला दिन' बताया।

मोदी सरकार ने अब जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया। साथ ही लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग किया गया है। जम्मू-कश्मीर के 2 हिस्सों में बांट दिया है। अमित शाह ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू एवं कश्मीर में विधानसभा होगी लेकिन लद्दाख में विधानसभा नहीं होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख में रविवार को कई परियोजनाओं का उद्घाटन किया। इसी के साथ उन्होंने अपने से जुड़े किस्से भी यहां के बारे में बताए। पीएम ने बताया कि कैसे वो लद्दाख से दिल्ली गोभी लेकर आया करते थे। दरअसल, पीएम मोदी अपने संबोधन में किसान सम्मान निधि योजना का जिक्र कर रहे थे।

नई दिल्ली। भारत के लद्दाख क्षेत्र में स्थानीय लोगों में गैस्ट्रो-इंटेस्टाइनल (जीआई) और त्वचा कैंसर के मामलों में वृद्धि हुई...

नई दिल्ली। डोकलाम विवाद के बाद चीन ने एक बार फिर गुस्ताखी करते हुए भारतीय सीमा में घुसपैठ की है।...