लद्दाख

चीन अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। किसी भी देश की सीमा में टांग अड़ाना चीन की आदत बन गई है। पहले चीन ने लद्दाख में धोखेबाजी की, अब उसकी नजर भूटान की सीमा पर है। ड्रैगन का कहना है कि भूटान के साथ भी पूर्वी क्षेत्र में उसका सीमा विवाद है।

बता दें कि दो दिन पहले ही पीएम मोदी लद्दाख से लौटे हैं। वहां उन्होंने गलवान घाटी में घायल हुए सैनिकों से मुलाकात की थी। इसके अलावा उन्होंने सीमा के हालात का जायजा लेने के बाद सैनिकों को संबोधित भी किया था।

अभिनेता-निर्माता अजय देवगन लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों द्वारा भारतीय सैनिकों पर किए गए हमले के आधार पर एक फिल्म बनाने की घोषणा करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

जापान के सीक्रेट कानून के दायरे में यह विस्तार पिछले महीने किया गया। इससे पहले जापान केवल अपने निकटतम सहयोगी अमेरिका के साथ ही डिफेंस इंटेलिजेंस साझा करता था, लेकिन अब इस सूची में भारत, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन भी शामिल हो गए हैं।

राहुल गांधी ने शनिवार को ट्वीट करते हुए लिखा, 'देशभक्त लद्दाखी चीनी घुसपैठ के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। वे चिल्ला चिल्ला कर आगाह कर रहे हैं। उनकी चेतावनी को नजरअंदाज करना भारत को महंगा पड़ेगा। भारत की खातिर, कृपया उन्हें सुनें।'

पीएम नरेंद्र मोदी के साथ इस बार लद्दाख दौरे पर चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे भी गए हैं।बॉर्डर पर चीन के साथ तनाव के बीच पहुंचे प्रधानमंत्री ने जवानों का हौसला बढ़ाया।

भूकंप का केंद्र कारगिल से 119 किमी. उत्तर पश्चिम में था। फिलहाल किसी प्रकार के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है।

गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प से भारत और चीन के बीच तनाव और बढ़ गया। इसका रोष लोगों में भी देखने को मिला और देश में 'बॉयकॉट चाइना' की मुहिम शुरू हो गई। ऐसे में खुद चीन ने माना है कि 'बॉयकॉट चाइना' की मुहिम से उसे काफी नुकसान होगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कोरोना महामारी, लॉकडाउन और चीन से चल रहे सीमा विवाद का भी जिक्र किया। पीएम मोदी ने सीमा विवाद को लेकर एक बार फिर से चीन को खरी-खरी सुनाई।

लद्दाख में गलवान घाटी, दौलत बेग ओल्डी, हॉट स्प्रिंग्स, चुशूल जैसे महत्वपूर्ण इलाकों को सैटेलाइट फोन कनेक्शन मिलेगा। ये सभी इलाके वास्तविक नियंत्रण रेखा से सटे हैं।