लॉकडाउन इंडिया

रोहित शर्मा ने ट्विटर पर लिखा, "यह वायरस हम सभी के जीवन में एक तूफान की तरह आया है और हम जिसे सामान्य कहते हैं उसे इसने बर्बाद कर दिया। अगर हमें चीजों को सकारात्मक तरीके से देखनी है तो, धरती मां अपने आप को स्वस्थ करने के रास्ते निकाल रही है। इस तरह के समय आपको आशा की किरण ढूंढ़ने को कहते है और हमें यही करना चाहिए।"

इस बैठक में जोन व्यवस्था को लेकर बड़ा फैसला होने की उम्मीद है। अभी तक के संकेतों के मुताबिक 17 मई के बाद भी रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन लागू रहेंगे मगर इनके चरित्र में थोड़ा बदलाव जरूर दिखेगा।

पीएमओ सूत्रों का कहना है कि जिम्मेदारियां तो सभी केंद्रीय मंत्रियों को 26 मार्च को ही मिल गईं थीं। लेकिन काम में तेजी बीते छह अप्रैल से दिख रही है, जब प्रधानमंत्री मोदी ने केंद्रीय मंत्रियों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए खुद उनकी भूमिका समझाई थी।

सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री आज रात देश को संबोधित कर सकते हैं। इसके साथ ही पीएम लॉकडाउन को बढ़ाए जाने का ऐलान कर सकते हैं।

वर्तमान में जब सरकार कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए लोगों को घरों में रहकर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने और भयभीत नहीं होने के लिए कह रही है, तो ऐसे समय में निश्चित तौर पर यह केंद्र के लिए राहत वाली खबर है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के दौरान मास्क पहने नजर आये।

कोरोना संकट को देखते हुए 24 मार्च को देश में 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया गया था। 25 मार्च से शुरू हुए देशव्यापी लॉकडाउन का आखिरी दिन 14 अप्रैल है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देश के अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक कर रहे हैं।

वर्तमान में कुल 1,135 सक्रिय मामलों के साथ महाराष्ट्र की स्थिति सबसे अधिक खराब है। यहां 117 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है, जबकि महामारी से अब तक के सबसे अधिक प्रभावित राज्य में 72 लोगों की मौत हो गई।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि मंगलवार से अभी तक 773 कोरोनावायरस मामले सामने आए हैं और 32 मौतें दर्ज की गई हैं। उन्होंने बताया कि अभी तक देश में कुल 402 लोग ठीक हो चुके हैं।

एवेन्यू सुपरमार्ट्स के प्रमोटर राधाकिशन दमानी ने कोरोनोवायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए पीएम-केयर्स फंड में 100 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।