लोकतंत्र

'आपातकाल: लोकतंत्र की हत्या और पुनर्जन्म, न भूलेंगे न माफ करेंगे' नामक पुस्तक का संपादन जेएनयू के छात्र प्रशांत शाही ने किया है।

जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ ने अहमदाबाद में गुजरात हाई कोर्ट के ऑडिटोरियम में 15वें पी. डी. मेमोरियल में लेक्चर देते हुए 'असहमति' को लोकतंत्र का 'सेफ्टी वॉल्व' करार दिया।

इस घटना के बाद जहां कई बड़े पत्रकार दीपक चौरसिया के साथ खड़े दिखाई दिए तो वहीं कुछ ऐसे भी सामने आए जो दीपक चौरसिया की ही गलती निकालने में लगे रहे।

मनुष्य एकाकी नहीं रह सकता। वह परिवार और समाज का अंग है। परिवार में परस्पर प्रेम का प्रसाद होता है। इसी तरह समाज में परस्पर प्रेम से राष्ट्र आनंद क्षेत्र बनते हैं।

आन्दोलनों से लोकतंत्र मजबूत होता है। सत्य निष्ठा से युक्त आन्दोलन जनमानस में स्वस्थ राजनैतिक चेतना का संचार करते हैं। गांधी, लोहिया, जयप्रकाश नारायण और पं0 दीनदयाल उपाध्याय आन्दोलन संगठित करते समय मुद्दो का गहन परीक्षण करते थे। वे सत्य की तह तक जाते थे।

हांगकांग पुलिस का कहना है कि इस रैली की आड़ में कुछ प्रदर्शनकारी हिंसक और विनाशकारी कार्य कर सकते हैं। बता दें कि हांगकांग सरकार के प्रत्‍यर्पण बिल के विरोध में जून के बाद से विरोध के सिलसिले में 850 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है।

सूडान में लोकतंत्र की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों के शिविरों पर सैन्य शासकों के हमले के बाद हजारों की संख्या में लोग सड़कों पर उतरे और राष्ट्रपति भवन की ओर मार्च किया। हालांकि इस दौरान विभिन्न कारणों से 7 प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई।

नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विपक्ष को लेकर कहा कि हमें खेद है कि एक चुनी हुई सरकार...