लोकसभा चुनाव- 2019

2019 लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त मिलने पर राहुल गांधी के पार्टी अध्यक्ष से इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस अबतक अपने नए नेता का चयन नहीं कर पाई है। जिसके बाद अब संभावना है कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) शनिवार यानी आज अंतरिम अध्यक्ष के रूप में नए नेता का ऐलान कर सकती है।

लोकसभा चुनाव से पहले अपने अंतिम मन की बात कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को भरोसा दिलाया था कि अगर उनकी पार्टी सरकार बनाने में कामयाब होती है और देश की जनता उनकी सरकार में भरोसा दिखाती है तो वह एक बार फिर जनता के बीच आकर मन की बात कार्यक्रम को आगे बढ़ाएंगे।

उन्होंने कहा, "मेरी 11 साल की बेटी बहुत बहुत खुश है, क्योंकि उसे हमारे प्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का पत्र मिला है। मोदी जी को लिखने का विचार उसी का था। मैंने बस पत्र पोस्ट करने में मदद की। उसे इतनी खुशी देने के लिए मोदी जी को धन्यवाद।"

मायावती ने कहा है कि अखिलेश ने मुझे संदेश भिजवाया कि मुसलमानों को ज्यादा टिकट नहीं दूं। इसके पीछे धार्मिक आधार पर वोटों का ध्रुवीकरण होने का तर्क दिया गया। हालांकि मैंने उनकी बात नहीं मानी।

सनी देओल पहली बार चुनाव मैदान में उतरे हैं, उन्होंने गुरदासपुर की सीट से कांग्रेस के सुनील कुमार जाखड़ को 82459 वोटों से हराया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में सनी देओल को 551177 वोट और सुनील कुमार जाखड़ को 474168 वोट मिले थे।

उन्होंने कहा कि वे बुनियादी सिद्धांत से समझौता नहीं कर सकते। नीतीश ने जनता दल (युनाइटेड) के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होने पर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में किसी प्रकार की कटुता से इंकार करते हुए कहा कि मंत्रिमंडल में सांकेतिक रूप से शामिल नहीं होने का निर्णय जद (यू) पार्टी का है। उन्होंने कहा, "भाजपा के साथ आपसी संबंध में कोई कटुता नहीं है। जैसे पहले सौहार्द का संबंध था वैसे आज भी है।"

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को कहा कि प्रदेश कांग्रेस कमिटी के मुखिया और राज्य के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट उनके बेटे की हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। वैभव गहलोत जोधपुर लोकसभा सीट से चुनाव हार गए हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद से ही मायावती एक्शन मोड में हैं। मायावती ने उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, ओडिशा, गुजरात और राजस्थान के प्रभारियों को हटा दिया है। इसके अलावा दिल्ली और मध्यप्रदेश के पार्टी अध्यक्ष को भी हटा दिया गया है।

बता दें कि अबतक असम में राज्यसभा की दो सीटों पर कांग्रेस का कब्जा था। लेकिन अब भाजपा ने उनमें सेंध लगा दी है। असम की दो राज्यसभा सीटों के लिए भाजपा और उसकी सहयोगी असम गण परिषद (अगप) के एक-एक उम्मीदवार को शुक्रवार को निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया।

इस बीच आईए नजर डालते है बिहार के उन उम्मीदवारों पर जिन्होंने इस लोकसभा चुनाव में अपार जीत हासिल की है।