लोकसभा स्पीकर

जानिए लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने किसे कहा कि 'दादा आज इतने जोश में क्यों...'

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने एक सभा के दौरान ब्राह्मणों को श्रेष्ठ बताते हुए कहा कि, उन्हें यह स्थान त्याग और तपस्या की वजह से मिला है। अब ओम बिड़ला के बयान को लेकर कांग्रेस पार्टी सवाल खड़े कर रही है।

जिस तरह से लोकसभा के नए स्पीकर ओम बिरला ने अपने पहले सात दिन लोकसभा में गुजारे हैं, इससे समझ आता है कि वे सबकुछ पहले जैसा ही नहीं चलने देने चाहते।

दो बार के लोकसभा सांसद ओम बिड़ला को पूरे सदन ने ध्वनिमत से अपना समर्थन दिया और फिर कार्यवाहक अध्यक्ष वीरेन्द्र कुमार ने बिड़ला को स्पीकर घोषित किया।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद ओम बिड़ला ने बुधवार को उन्हें सर्वसम्मति से 17वीं लोकसभा का अध्यक्ष चुनने पर राजनीतिक पार्टियों का शुक्रिया अदा किया और निष्पक्षता के साथ अपने कर्तव्य के निर्वहन के लिए प्रतिबद्धता जताई।

राजस्थान के कोटा से भाजपा सांसद ओम बिड़ला आज निर्विरोध लोकसभा के अध्यक्ष चुन लिए गए है। प्रधानमंंत्री नरेंद्र मोदी ने ओम बिड़ला के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसका राजनाथ सिंह ने समर्थन किया।

राहुल ने जब शपथ ग्रहण किया उसके बाद वो हस्ताक्षर करना भूल गए। जैसे ही राहुल बिना हस्ताक्षर किए जाने लगे तो रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत अन्य सांसदों ने राहुल को हस्ताक्षर करने के बारे में याद दिलाया।

पीएम नरेंद्र मोदी ने एक बार सबको खासकर अपनी ही पार्टी के लोगों को चौंका दिया है, जिसका कारण है लोकसभा स्पीकर का पद। दरअसल मोदी सरकार 2.0 में लोकसभा का स्पीकर ओम बिड़ला को बनाया गया है, जो राजस्थान के कोटा से बीजेपी सांसद हैं। चूंकि ओम बिड़ला का नाम इससे पहले राष्ट्रीय राजनीति में कभी नहीं सुना गया।

मोदी सरकार के दोबारा सत्ता में आने के बाद चर्चा इस बात की भी थी कि आखिर लोकसभा अध्यक्ष का पद किसको दिया जाएगा। कई नामों की चर्चा के बाद आखिरकार अब इसपर विराम लग गया है।

नई दिल्ली। राफेल मामले पर कांग्रेस, उत्तर प्रदेश के खनन मामले की जांच को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) एवं अलग-अलग...