विजय माल्या

इस फैसले से पहले शराब कारोबारी विजय माल्या ने कोरोना संकट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आर्थिक राहत पैकेज के ऐलान पर केंद्र सरकार को बधाई देते हुए कहा कि अब सरकार को उससे सारा पैसा वापस ले लेना चाहिए।

ऐसा पहली बार नहीं है कि विजय माल्या ने ट्विटर के जरिए इस तरह पैसा वापस देने की पेशकश की हो। इसके पहले भी वह ऐसे ऑफर दे चुका है, हालांकि खुद भारत आने को तैयार नहीं हैं और पिछले करीब चार साल से लंदन में ही हैं।

20 साल से देश से फरार बुकी संजीव चावला की गिरफ्तारी से देश के भीतर हड़कंप की स्थिति है। देश के भीतर के कई सफेदपोश चेहरों के नाम सामने आ सकते हैं।

पुलिस विदेशों में जेल की हालत का मुआयना करने के बाद उसी के मुताबिक महाराष्ट्र में जेल तैयार करेगी। इसका मकसद नीरव मोदी और विजय माल्या के इस तर्क की हवा निकालना और उन्हें वापस लेकर आना होगा।

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने कैफे कॉपी डे के मालिक वीजी सिद्धार्थ के बहाने खुद अपना दुखड़ा रोया है। माल्या के मुताबिक वीजी सिद्धार्थ बहुत ही अच्छे शख्स थे। उन्होंने आरोप लगाया कि जिस तरह इनकम टैक्स के लोगों ने उन्हें परेशान किया ठीक उसी तरह उनके साथ भी होता रहा है।

माल्या ने याचिका दायर कर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा उसकी संपत्ति को जब्त करने पर रोक लगाने की मांग की है। माल्या भारतीय बैंकों से लिए गए 9,000 करोड़ रुपये के ऋण को चुकाए बिना भारत से भाग गया था और वर्तमान में इंग्लैंड में प्रत्यर्पण संबंधी प्रक्रियाओं से गुजर रहा है।

मोदी सरकार की कार्यवाही का असर ब्रिटेन में भी दिख रहा है। विजय माल्या को कई बार सार्वजनिक तौर पर "चोर" कहकर हूट किया जा चुका है। विश्व कप का मैच देखने पहुंचे माल्या को चोर कहकर हूट करने का वीडियो खासा वायरल हुआ था।

देश में घोटाला करके भागकर लंदन में जा बसे विजय माल्या को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ा झटका मिला है। दरअसल, माल्या ने अपने और अपनी संपत्ति पर कार्रवाई करने से रोक की मांग की थी, जिसे हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है। 

भारतीय बैंकों के 9 हज़ार करोड़ रुपये लेकर फरार शराब कारोबारी विजय माल्या को लंदन की अदालत से बड़ी राहत मिली है। भारत प्रत्यर्पण किए जाने के खिलाफ माल्या की अपील को लंदन हाईकोर्ट ने स्वीकार कर लिया है। बता दें कि मंगलवार को लंदन हाईकोर्ट में माल्या के भारत प्रत्यर्पण को लेकर सुनवाई हुई।

वहीं मैच खत्म होने के बाद जब माल्या स्टेडियम से बाहर निकल रहे थे तो लोगों ने उन्हें देखकर 'चोर है...चोर है' चिल्लाना शुरु कर दिया। इसके बाद उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि मैं सुनिश्चित कर रहा हूं कि मेरी मां को कोई चोट न पहुंचे। दरअसल इस दौरान उनके साथ उनकी मां ललिता भी थीं, जब भीड़ ने उन्हें घेर कर 'चोर है...चोर है' के नारे लगाए।