विश्व स्वास्थ्य संगठन

दुनियाभर में कोरोना के कहर के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक और चेतावनी जारी की है। जिसके मुताबिक जरूरी नहीं कि एक वैक्सीन से कोरोना खत्म हो जाए।

दुनियाभर में कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ने के खिलाफ अब कई वैक्सीन कंपनियों का काम अंतिम चरण में पहुंच गया है। दावा किया जा रहा है कि अगर सबकुछ सही रहा तो अगस्त के आखिर तक कोरोना वैक्सीन उपलब्ध हो सकती है।

दुनियाभर में कोरोना का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। विश्व में नोवल कोरोनोवायरस मामलों की कुल संख्या 1.72 करोड़ का आंकड़ा पार कर गई है। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस घातक महामारी को लेकर नई चेतावनी दी है।

इन चार देशों की इस पहली बैठक में वांग ने इस महामारी का मिल कर मुकाबला करने पर सहमति को मजबूत करने, कोरोनावायरस संकट के राजनीतिकरण से बचने और वैश्विक स्वास्थ्य समुदाय का संयुक्त रूप निर्माण करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन को उसकी भूमिका निभाने में उसका दृढता से समर्थन करने समेत चार सूत्री कार्ययोजना का प्रस्ताव रखा।

जेनबर्कट फार्मास्युटिकल्स ने एक बयान में कहा कि इस दवा का निर्माण तेलंगाना के एक फार्मास्युटिकल प्लांट में किया गया। गुरुवार को फार्मा कंपनी ब्रिंटन फार्मास्युटिकल्स ने कहा था कि वह 'फवीटन' ब्रांड के नाम से फेविपिरविर को अधिकतम खुदरा मूल्य 59 रुपये प्रति टैबलेट के तहत बेचेगी।

क्या मच्छर कोरोनावायरस को ले जाते हैं और क्या वे इसे इंसानों तक पहुंचा सकते हैं? इन सवालों का जबाव शायद न में है। इस बारे में एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है।

दरअसल हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर ठोस क़दम नहीं उठाया गया तो कोरोना वायरस की महामारी बद से बदतर होती जाएगी।

शुक्रवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि उनकी टीम कोरोना वायरस की उत्पति के बारे में पता लगाने के लिए चीन रवाना हो गई है।

चीन पर अक्सर कोरोना वायरस फैलाने का आरोप लगता रहा है और चीन दावा करता रहा है कि उसने कोई जानकारी नहीं छिपाई है। इसी बीच अब हॉन्ग-कॉन्ग की एक साइंटिस्ट ने आरोप लगाया है कि चीन को दरअसल इस बारे में पहले से पता था और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इस बारे में कुछ नहीं किया।

देश में कोरोना के प्रकोप को देखते हुए हो रही कोरोना की टेस्टिंग पर मंत्रालय ने कहा, ‘‘कोविड-19 की रोकथाम के लिए राष्ट्रीय और राज्य सरकार के स्तर पर समन्वित प्रयासों के कारण लगातार उत्साहजनक परिणाम मिल रहे हैं।