विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने वैक्सीन पर राष्ट्रवाद के खिलाफ चेतावनी दी है। उन्होंने अमीर देशों को आगाह करते हुए कहा कि यदि वे खुद के लोगों के उपचार में लगे रहते हैं और अगर गरीब देश बीमारी की जद में हैं तो वे सुरक्षित रहने की उम्मीद नहीं कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में पारंपरिक चिकित्सा में सहयोग पर चर्चा करने के लिए एससीओ के भीतर कोई संस्थागत तंत्र नहीं है जो विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की पारंपरिक चिकित्सा रणनीति 2014-2023 को पूरा करने की क्षमता रखता हो।

दुनिया का लगभग हर देश कोरोना से जूझ रहा है। वैश्विक महामारी से दुनिया भर में अब तक 6.15 लाख से अधिक लोग अपनी जान गवां चुके हैं जबकि इसके संक्रमितों का आंकड़ा 1.4 करोड़ से अधिक हो गयी है।

भारत में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 11 लाख 92 हजार 915 हो गई है। देश में पिछले 24 घंटे में 37,724 नए मामले सामने आए हैं और 648 लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा देश में अभी तक इस महामारी की वजह से 28,781 लोगों की मौत हुई है।

राज्य के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा, "हमारे पास बंगाल में लॉकडाउन शुरू करने की कोई योजना नहीं है। केवल कंटेनमेंट जोन में ही सख्त लॉकडाउन होगा।"

ट्रंप ने मंगलवार देर रात कहा, 'वे डब्‍ल्‍यूएचओ वास्‍तव में चीन की कठपुतली हैं। हम चीन को इस महामारी को छिपाने और दुनिया में फैलाने के लिए जिम्‍मेदार मानते हैं और हमने कोई गलती नहीं की है। वे इसे रोक सकते थे और उन्‍हें इसे रोकना चाहिए था।'

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी इसकी तारीफ की है। डब्ल्यूएचओ ने धारावी का उदाहरण देते हुए कहा है कि राष्ट्रीय और वैश्विक एकजुटता के साथ आक्रामक कार्रवाई से महामारी को रोका जा सकता है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से देश को आधिकारिक तौर पर बाहर निकालना 'संवेदनहीनता का काम' है। यह बात हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ने कही है।

डब्ल्यूएचओ के एक सर्वे के अनुसार 73 देशों ने चेताया है कि कोविड-19 महामारी के कारण उनके यहां एड्स की जीवनरक्षक दवाओं का स्टॉक ख़त्म होने वाला है। वहीं, 24 देशों ने कहा कि उनके यहां एड्स की ज़रूरी दवाएं या तो बहुत कम हैं या उनकी सप्लाई बुरी तरह बाधित हुई है।

गौरतलब है कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण फैलने को लेकर आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति लगातार हो रही है। इस बीच दिल्ली में कोरोना के 129 और रोगियों की मृत्यु के बाद दिल्ली में कोरोनावायरस से मरने वाले लोगों की कुल संख्या बढ़कर 1214 हो गई है। दिल्ली में अभी तक 36,824 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं।