विश्व हिंदू परिषद

केंद्र सरकार ने राम मंदिर से जुड़े ट्रस्ट को बनाने की प्रक्रिया पूरी कर ली है। इस सिलसिले में बातचीत पूरी हो चुकी है। ट्रस्ट में राम मंदिर आंदोलन से जुड़े लोगों की संख्या ज्यादा होने की उम्मीद है।

विहिप के मुताबिक राम मंदिर को लेकर ट्रस्ट के प्रबंधन में सिर्फ हिंदू धर्म की पूजा करने वाले लोगों को ही शामिल किया जाना चाहिए। विहिप ट्रस्ट के मामले में सरकार की ओर से भी किसी मंत्री को प्रतिनिधि बनाने के खिलाफ है।

अयोध्या पर फैसला आया तो यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की खुशी की सीमाएं नहीं रही। खुशी से दमकते हुए योगी ने तालियां बजाई। योगी के लिए यह फैसला बेहद भावुकता का क्षण था। वह इसे टीवी पर देख रहे थे। उनके साथ में विश्व हिंदू परिषद के वरिष्ठ नेता दिनेश जी बैठे हुए थे।

विहिप के प्रवक्ता शरद शर्मा ने बताया, "हमारा संगठन सदैव अनुशासन में रहता है। मंदिर मुद्दे के निर्णय पर खासकर सतर्कता बरती जा रही है। कई लोग अनर्गल बयानबाजी करते है। परिस्थितियां देखकर ही बयान देना चाहिए।"

बजरंग दल ने यह भी मांग की थी कि ओमजी के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के अंतर्गत मामला दर्ज किया जाए। ओमजी ने रविवार को कहा था कि चिन्मयानंद के खिलाफ मामला राम मंदिर निर्माण में बाधा उत्पन्न करने के लिए दर्ज कराया गया है।

बिहार पुलिस की विशेष शाखा ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और उससे जुड़े संगठनों और उसके अधिकारियों की जानकारी एकत्र करने का फरमान जारी किया है।

विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि उनका संगठन राम मंदिर निर्माण पर नरेंद्र मोदी सरकार को उनके वादे के बारे में 'याद दिलाने' का फैसला किया है।

सोमवार को पुलिस ने उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की। एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि जुलूस में लड़कियों को बंदूक से हवा में गोलियां चलाते और तलवारें लहराते देखा गया।

 विश्व हिंदू परिषद पश्चिम बंगाल में बड़े पैमाने पर रामनवमी मनाने की योजना बना रहा है। इस बाबत संगठन ने पूरे राज्य में 700 जुलूस निकालने का फैसला किया है।

मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या की 67.7 एकड़ 'गैर-विवादित' उनके मालिकों को सौंपने की अर्जी लगा दी है। सरकार द्वारा अधिग्रहीत 63 भूमि में से 43 एकड़ जमीन विश्व हिंदू परिषद के राम जन्मभूमि न्यास की है।