व्हाइट हाउस

US President : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) को भेजे गए एक संदिग्ध पैकेज में जहर मिलने में पुष्टि हुई है। कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने इस सप्ताह के शुरुआत में एक पैकेट की छानबीन की जिसमें रिसिन (Ricin) नाम के जहर की पुष्टि हुई है।

व्हाइट हाउस (White House) में रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन (Republican National Convention) के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कानूनी आव्रजन के प्रति अपना समर्थन दिखाने के लिए बड़े ही नाटकीय अंदाज में एक भारतीय सॉफ्टवेयर डेवलपर महिला का 'नागरिकों के महान अमेरिकी परिवार' में स्वागत किया।

ट्रंप ने कहा कि उन्हें गोलीबारी के मामले में युवक की पहचान या मकसद के बारे में पता नहीं चल सका है। हालांकि, अभी तक यह जानकारी सामने नहीं आ सकी है कि उस युवक से आखिर किस तरह का खतरा था।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कायले मैकनेनी ने बताया, कोरोना वायरस की जांच के संबंध में, हमने 4.2 करोड़ से अधिक नमूनों की जांच की है। इसके बाद सर्वाधिक 1.2 करोड़ नमूनों की जांच भारत में हुई है।

ट्रंप ने कहा कि दंगा, लूटपाट, बर्बरता, हमले और संपत्ति के विनाश को रोकने के लिए सभी उपलब्ध संघीय संसाधनों और सेना को जुटाएंगे और कानून का पालन करने वाले अमेरिकियों के अधिकारों की रक्षा करेंगे। उन्होंने कहा कि हम उन दंगों और अराजकता को समाप्त कर रहे हैं जो पूरे देश में फैले हुए हैं।

अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के विरोध में हो रहे हिंसक प्रदर्शनों की आंच व्हाइट हाउस तक पहुंच चुकी है। वाशिंगटन डीसी में शुक्रवार रात व्हाइट हाउस के बाहर प्रदर्शनकारियों के जमा होने पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को कुछ समय के लिए एक भूमिगत बंकर में ले जाया गया था।

बता दें कि इस दवा के इस्तेमाल से कोरोना के मरीजों में मौत की संभावना बढ़ने के दावे के चलते एहतियात के तौर पर WHO ने इसपर अस्थायी रोक लगाई थी।

व्हाइट हाउस ने अपनी रिपोर्ट में कहा, बीजिंग अपने सिद्धातों का उल्लंघन कर रहा है और यलो सी, ईस्ट व साउथ चाइना सी, ताइवान स्ट्रेट और भारत-चीन सीमा में उकसाने वाली गतिविधियां कर पड़ोसी देशों के प्रति अपनी ही प्रतिबद्धताओं का मजाक बना रहा है।

सीएनएन की एक रिपोर्ट के हवाले से सिन्हुआ समाचार एजेंसी ने शुक्रवार को कहा, "इवांका के वैयक्तिक सहायक के रूप में काम करने वाले उनके सचिव पिछले कई हफ्तों से उनके साथ नहीं रहे हैं।"

हाल ही में व्हाइट हाउस ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ट्विटर पर फॉलो किया था, हालांकि अब दोनों नेताओं के ट्विटर हैंडल व्हाइट हाउस की फॉलोइंग सूची में नहीं हैं।