व्हाट्सएप

जेएनयू हिंसा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने आज एक बड़ा आदेश दिया। हाईकोर्ट ने व्हाट्सएप और गूगल को आदेश देते हुए कहा कि 5 जनवरी को JNU में हिंसा से संबंधित सोशल मीडिया का डेटा संरक्षित कर जांच के लिए उपलब्ध कराएं।

व्हाट्सएप आईओएस यूजर्स के लिए एक नए बीटा अपडेट पर भी काम कर रहा है। इसके अंतर्गत म्यूट किए गए स्टेटस अपडेट हाइड करने, स्प्लैश स्क्रीन और एप बेज इंप्रूवमेंट्स और अन्य फीचर्स होंगे।

कंपनी के अनुसार, आप फेसबुक या मैसेंजर पर सिर्फ कुछ चरणों के बाद ही 'फेसबुक पे' का उपयोग शुरू कर सकते हैं। इसके लिए आप फेसबुक एप या वेबसाइट पर पहले सेटिंग में जाए और फिर 'फेसबुक पे' पर जाकर पेमेंट मैथड जोड़ दें।

अयोध्या पुलिस के मुताबिक कई सोशल मीडिया सेल जनपद अयोध्या में कई व्हाट्सएप ग्रुपों में इस प्रकार के भ्रामक मैसेज का प्रसार किया जा रहे हैं जिसका अयोध्या पुलिस पूर्णतया खंडन करती है।

अब व्हाट्सएप पर जासूसी को लेकर गृह मंत्रालय ने बयान दिया है। मंत्रालय ने कहा कि सरकार पर निजता के हनन के आरोप बेबुनियाद हैं। ऐसा करके सरकार की छवि को खराब करने की कोशिश की गई है।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने व्हाट्सएप से 4 नवंबर तक विस्तृत जवाब मांगा है। गुरुवार को फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप ने कहा कि इजरायली स्पाईवेयर पीगासस भारतीय पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी कर रहा था।

व्हाट्सएप ने एंड्रॉएड 4.0.3 या उसके बाद के वर्जन और आईओएएस 8 या उसके बाद के वर्जन वाले फोन के मॉडल और केएआईओएस 2.5.1 या उसके बाद के वर्जन के साथ ही जीयो फोन और जीयोफोन 2 का उपयोग करने की सलाह दी है।

यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी में इंफोर्मेशन टैक्नोलॉजी एंड ऑर्गेनाइजेशन के प्रोफेसर काई रीमर ने मंगलवार को समाचार एजेंसी सिन्हुआ को बताया कि व्हाट्सएप मैसेज कंटेंट नहीं लेगा लेकिन वह मेटाडाटा की जानकारी ले सकता है।

नई दिल्ली। गलत उपयोग किए जाने का आरोप झेल रहे सोशल नेटवर्किंग एप व्हाट्सएप ने भड़काऊ अफवाहों और गलत सूचनाओं...

नई दिल्ली। सोशल मीडिया प्लेटफार्म व्हाट्सएप के संबंध में एक रोचक जानकारी सामने आई है। एक रिपोर्ट से पता चला...