शाह फैसल

फारूक अब्दुल्ला के अलावा उनके बेटे और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, आईएएस अफसर से नेता बने शाह फैसल समेत कई नेताओं पर पीएसए के तहत केस दर्ज किया गया था।

जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों-उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के बाद अब नौकरशाह से राजनेता बने शाह फैसल के खिलाफ पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) लगा दिया गया है। सूत्रों ने यहां शनिवार को यह जानकारी दी।

इस सब के बीच जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती पर पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) लगाए जाने का विरोध शुरू हो गया है।

शाह फैसल को घर में नजरबंद भी कर दिया गया है। गिरफ़्तारी को लेकर जानकारी है कि फैसल को पब्लिक सेफ्टी एक्ट(पीएसए) के तहत गिरफ्तार किया गया है। सूत्रों के मुताबिक शाह फैसल इंस्तांबुल की ओर जा रहे थे।

उन्होंने कहा कि अमरनाथ यात्रा को बीच में रोकने को अन्य मुद्दों के साथ जोड़कर 'बेवजह का डर' पैदा किया जा रहा है। राज्यपाल ने राजनीतिक नेताओं से अपने समर्थकों से शांति बनाए रखने और 'अफवाहों' पर भरोसा ना करने की बात कही है।

पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल ने रविवार को अपनी राजनीतिक पार्टी 'जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट' की शुरुआत करते हुए श्रीनगर में रैली की। इस दौरान जवाहरलाल नेशनल यूनिवर्सिटी (जेएनयू) की छात्र नेता शेहला राशिद समेत कई लोग फैसल की राजनीतिक पार्टी में शामिल हुए। फैसल ने कहा कि पहले मैंने सोचा था कि मैं कश्मीर घाटी के किसी भी प्रमुख राजनीतिक दल में शामिल हो जाऊंगा, लेकिन इन पार्टी के प्रति लोगों की प्रतिक्रिया बहुत नकारात्मक थी।

संघ लोक सेवा आयोग UPSC की परीक्षा में टॉप करने वाले शाह फैसल के राजनीति में आने से आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन बौखला गया है। हिज्बुल ने चिट्ठी जारी कर लोगों से कहा है कि वे राजनीति में शाह फैसल का साथ न दें।

नई दिल्ली। वर्ष 2010 की सिविल सेवा परीक्षा में टॉप पर रहे भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी शाह फैसल...