शाह महमूद कुरैशी

कुरैशी की यह टिप्पणी ईरान द्वारा इराक में अमेरिका के सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले किए जाने के दिन आई हैं। अमेरिका के हमले में तीन जनवरी को ईरानी मेजर जनरल कासिम सुलेमानी मारे गए थे।

भारत द्वारा पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों पर हमला करने की चिंता भी कुरैशी की बातों में झलकी जब उन्होंने अपनी इस बात को दोहराया कि 'भारत खुद ही कोई कार्रवाई (फाल्स फ्लैग ऑपरेशन) कर, उसकी जिम्मेदारी पाकिस्तान पर थोपने के बाद, पाकिस्तानी सीमा में घुसकर कोई दुस्साहस कर सकता है।'

संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) के विदेश मंत्रियों की बैठक में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के संबोधन के दौरान पाकिस्तान ने बैठक का बहिष्कार किया।

कश्मीर मामले में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में 50 से अधिक देशों के समर्थन के मामले में झूठ बोलने पर पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी निशाने पर आ गए हैं।

पाकिस्तान ने जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में कश्मीर का मुद्दा उठाया है. वहीं पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर को भारत का हिस्सा माना है।

शाह महमूद कुरैशी ने वार्ता की पेशकश करते हुए कहा कि अगर इसमें कोई तीसरा पक्ष मध्यस्थता करता है तो पाकिस्तान को खुशी होगी, हालांकि उन्होंने कहा कि भारत की ओर से उन्हें वार्ता का कोई माहौल नहीं दिखता है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने स्पष्ट किया है कि अभी तक देश के हवाई क्षेत्र को भारत के लिए बंद करने पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एआरवाई न्यूज टीवी को बताया, "हमने कश्मीर मामले को अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में ले जाने का फैसला किया है।"

दरअसल पाकिस्तान चाहता था कि कश्मीर मुद्दे पर दुनियाभर के देशों से उसे मदद मिले और सभी देशों का उसे साथ भी। लेकिन हुआ इसके उलट, अब तक चीन को छोड़ दें तो किसी भी बड़े देश ने पाकिस्तान के समर्थन में आवाज नहीं उठाई है।

विदेश सचिव सोहेल महमूद और विदेश मंत्री के अन्य उच्च अधिकारी भी कुरैशी के साथ रवाना हुए हैं। भारत सरकार ने सोमवार को जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया।