शाह महमूद कुरैशी

एलओसी पर जारी विवाद के बीच कश्मीर को लेकर पाकिस्तान ने एक बार फिर भारत के खिलाफ राग छेड़ दिया है। सोमवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और रक्षा मंत्री परवेज खटक नियंत्रण रेखा के दौरे पर पहुंचे।

भारत ने एक दिन पहले ही पाकिस्तान से कहा था कि वह दिल्ली में अपने हाई कमीशन से 50 प्रतिशत कर्मचारियों पर वापस बुला ले, क्योंकि वे जासूसी कर रहे हैं। इस पर अब पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने प्रतिक्रिया दी है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भारत को बॉर्डर पर किसी भी प्रतिक्रिया के खिलाफ चेतावनी देते हुए एक जवाबी कार्रवाई की गीदड़ भभकी दी है।

विदेश मंत्री कुरैशी पीएम मोदी को कथित सर्वश्रेष्ठ हिंदूवादी विचारधारा को लेकर हमला करना चाह रहे थे लेकिन इस ट्वीट में वह बड़ी गलती कर बैठे।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बुधवार को कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दाओस में आयोजित विश्व आर्थिक मंच में पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया है कि वह जल्द ही पाकिस्तान का दौरा करेंगे।

कुरैशी की यह टिप्पणी ईरान द्वारा इराक में अमेरिका के सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले किए जाने के दिन आई हैं। अमेरिका के हमले में तीन जनवरी को ईरानी मेजर जनरल कासिम सुलेमानी मारे गए थे।

भारत द्वारा पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों पर हमला करने की चिंता भी कुरैशी की बातों में झलकी जब उन्होंने अपनी इस बात को दोहराया कि 'भारत खुद ही कोई कार्रवाई (फाल्स फ्लैग ऑपरेशन) कर, उसकी जिम्मेदारी पाकिस्तान पर थोपने के बाद, पाकिस्तानी सीमा में घुसकर कोई दुस्साहस कर सकता है।'

संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) के विदेश मंत्रियों की बैठक में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के संबोधन के दौरान पाकिस्तान ने बैठक का बहिष्कार किया।

कश्मीर मामले में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में 50 से अधिक देशों के समर्थन के मामले में झूठ बोलने पर पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी निशाने पर आ गए हैं।

पाकिस्तान ने जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में कश्मीर का मुद्दा उठाया है. वहीं पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर को भारत का हिस्सा माना है।