शिक्षा

यह घोषणा स्कूलनेट इंडिया लिमिटेड के एनसीईआरटी आधारित डिजिटल लर्निग प्लैटफार्म जीनीयो ने की है। डिजिटल इनिशिएटिव्स स्कूलनेट इंडिया के प्रमुख शूरी चटर्जी ने कहा, "हमारा मकसद उच्चस्तरीय मल्टी-सेंसरी लर्निग मेटीरियल सुलभ बनाकर शिक्षा का जनतांत्रीकरण करना है।

उन्होंने कहा, "हमने ऐसी पहल की शुरुआत की है, जिससे महिलाओं की भागीदारी बढ़ाई जा सके। हमने कोशिश की है कि विज्ञान से जुड़ी गतिविधियों में महिलाओं की हिस्सेदारी बढ़े। हमने कोशिश की है कि नेतृत्व की भूमिका में महिलाओं की भागीदारी बढ़े, जिससे वे रोल मॉडल बनें।"

एमबीबीएस व बीडीएस पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए आयोजित होने वाली परीक्षा 'नीट-2019' (राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा) के आवेदन शुल्क से नेशनल टेस्टिंग एजेंसी को 192 करोड़ रुपये से ज्यादा राशि अर्जित हुई है।

दूसरे चरण की परीक्षा ड‍िस्‍क्र‍िप्‍ट‍िव होगी, ज‍िसमें पत्र या न‍िबंध लेख पूछा जा सकता है। आयोग पहले चरण की परीक्षा के कटऑफ ल‍िस्‍ट स्‍कोर की घोषणा श्रेणी और राज्‍य के अनुसार करेगा।

इस डिस्क्लोजर स्कीम के तहत देश की नामी कंपनियों को इस डाटाबेस की मदद से योग्य उम्मीदवार तलाशने में मदद मिल सकती है।

कंपनी अभियोजक, कॉर्पोरेट मंत्रालय में कुल 11 पद हैं। इनके लिए अप्लाई करने वाले कैंडीडेट्स के पास मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से लॉ की डिग्री हो।

कुछ स्कूलों के एसआर रजिस्टरों की जांच जिला विद्यालय स्वयं करेंगे। जिससे स्कूलों में किसी प्रकार से कोई फर्जी पंजीकरण न हो सके।

एडवाइजर की पोस्‍ट पर अप्‍लाई करने से पहले उम्‍मीदवार ऑफिशियिल नोटिफिकेशन अच्‍छी तरह पढ़ ले। पूरी डिटेल पढ़ने के बाद ही अप्‍लाई करें।

जो कैंडीडेट्स इस मेन एग्जाम को क्वालीफाई करेंगे उन्हें नवंबर 2019 में होने वाले इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि बीईपीसी ने यूनिसेफ के सहयोग से बच्चों की सुरक्षा के गुर सीखने के लिए शिक्षकों को भी प्रशिक्षित कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रथम चरण में प्रशिक्षित करने के लिए राज्य के सभी नौ प्रमंडलों से पांच-पांच शिक्षकों का चयन किया गया है।