शिवसेना

महाराष्ट्र में सरकार गठन का रास्ता अब सुलझते दिख रहे हैं। शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने की तरफ बढ़ रही है। विधानसभा चुनाव परिणाम आने के 22 दिन बाद भी राज्य में सरकार का गठन नहीं हो पाया है।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने मीडिया के सामने राज्य में सरकार बनाने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि हमारे पास सबसे ज्यादा विधायक हैं। 119 विधायकों (105 बीजेपी और 14 निर्दलीय) के साथ बीजेपी राज्य में सरकार बनाएगी।

महाराष्ट्र में सरकार बनने का रास्ता साफ हो गया है। सूत्रों के मुताबिक लंबी कवायद के बाद शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच सरकार बनाने को लेकर समझौता हो गया है। समझौते के तहत शिवसेना को पूरे कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री पद मिलेगा। वहीं कांग्रेस और एनसीपी के खाते में एक-एक उपमुख्यमंत्री पद आएगा।

कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना की बैठक के बाद गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी की कोर कमेटी की बैठक हुई, इस बैठक में हिस्सा लेने के बाद जब भाजपा नेता आशीष शेल्लार बाहर आए तो उन्होंने मीडिया से सिर्फ इतना कहा, '..जय श्री राम, हो गया काम'।

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी से कहा कि वह उन्हें डराने या धमकाने की कोशिश न करें और शिवसेना को अपना राजनीतिक रास्ता चुनने दें। राउत ने मीडिया में कहा, "हम लड़ने और मरने के लिए तैयार हैं, लेकिन धमकी या जबरदस्ती की रणनीति को बर्दाश्त नहीं करेंगे।"

उन्होंने शिवसेना को साफतौर से जवाब देते हुए कहा कि, चुनाव प्रचार के दौरान मैंने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई बार ये कहा था कि, 'अगर हमारा गठबंधन जीतता है तो फिर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ही होंगे'।

एक पूर्व शिवसैनिक ने उद्धाव ठाकरे से मांग की है कि, वो कांग्रेस-एनसीपी के साथ मिलकर सरकार ना बनाएं। इस मांग को लेकर शख्स मोबाइल टॉवर के ऊपर चढ़ गया।

मगर अब इस राष्ट्रपति शासन के पीछे की बेहद दिलचस्प कहानी सामने आई है। इस फैसले में एनसीपी प्रमुख शरद पवार के पत्र की अहम भूमिका रही जो उन्होंने मंगलवार सुबह राज्यपाल को भेजा था। 

अब भाजपा ने इन सब चीजों के लिए चुनावी रणनीतिकार और जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्याक्ष प्रशांत किशोर को जिम्मेदार ठहराया है। भाजपा नेता प्रीति गांधी ने शिवसेना और भाजपा के गठबंधन के टूटने पर प्रशांक किशोर को निशाना साधा है

अस्पताल से बाहर आकर संजय राउत ने कहा कि, वो अब बिल्कुल ठीक हैं और जल्द ही महाराष्ट्र को अगला मुख्यमंत्री मिलेगा। उन्होंने ये भी कहा कि, सबसे बात चल रही है और अगला सीएम शिवसेना का होगा।