शिवसेना

दरअसल, नालासोपारा विधानसभा क्षेत्र से शिवसेना प्रत्याशी प्रदीप शर्मा की रैली में दाऊद का गुर्गा श्याम किशोर गरिकापट्टी नजर आया है। दाऊद के गुर्गे के साथ प्रदीप शर्मा की तस्वीर वायरल हो रही है।

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले शिवसेना को बड़ा झटका लगा है। कल्याण (पूर्वी) विधानसभा सीट से पार्टी के 26 पार्षद और लगभग 300 कार्यकर्ताओं ने पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को अपना इस्तीफा भेज दिया है। यह सभी विधानसभा चुनाव के लिए हुए सीटों के वितरण से नाखुश हैं।

उद्धव के मुताबिक उन्होंने बाला साहेब को इस बात का वचन दिया था जिसे वह हर हाल में निभाएंगे। उद्धव ठाकरे ने कहा कि "24 तारीख के बाद मैं दोबारा बोलूंगा। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद पर शिवसैनिक को बैठाकर दिखाऊंगा।

पिछले विधानसभा चुनाव में शिवसेना ने बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं किया था। शिवसेना ने बीजेपी से अलग होकर चुनाव लड़ा था। साल 2014 के विधानसभा चुनाव में शिवसेना ने 63 सीटों पर जीत दर्ज की थी। जबकि बीजेपी ने 122 सीटे जीतने में कामयाबी हासिल की थी।

चुनाव कार्यालय में उनका स्वागत करने के लिए उनके पिता व शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, मां रश्मि उनके छोटे भाई तेजस के साथ मौजूद थे। शिवसेना की युवा विंग के अध्यक्ष आदित्य कुछ साल पहले पार्टी के 'नेता' के रूप में नियुक्त हुए थे और हाल ही में उन्होंने राज्य में 'महा जन आशीर्वाद यात्रा' आयोजित की थी।

288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में बीजेपी के पास 122 सीटें हैं, वहीं शिवसेना के पास 63 सीटें हैं। वहीं अब महाराष्ट्र विधानसभा के लिए चुनाव 21 अक्टूबर को होंगे और नतीजे 24 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे।

महाराष्ट्र विधनासभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी-शिवसेना ने गठबंधन का ऐलान कर दिया है। हालांकि सीट शेयरिंग को लेकर अभी कुछ नहीं कहा गया है। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही दोनों के बीच सीट बंटवारे को लेकर आधिकारिक घोषणा कर दी जाएगी।

संजय राउत ने कहा कि शरद पवार भारतीय राजनीति के भीष्म पितामह हैं। पूरा महाराष्ट्र जानता है कि जिस बैंक में घोटाले को लेकर ईडी ने एफआईआर में नाम दर्ज किया है, उस बैंक में शरद पवार किसी भी पद पर नहीं रहे हैं।

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, "इतना बड़ा महाराष्ट्र है ये जो 288 सीटों का बंटवारा है ये भारत पाकिस्तान के बंटवारे से भी भयंकर है। यदि हम सरकार में होने के बजाय विपक्ष में होते तो तस्वीर दूसरी होती।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर हिंदुत्व विचारक वीर सावरकर उस समय देश के प्रधानमंत्री होते तो पाकिस्तान अस्तित्व में ही नहीं आता। उन्होंने वीर सावरकर को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने की मांग की।