शिवसेना

शिवसेना के हिस्से में शहरी विकास और पर्यावरण मंत्रालय, कांग्रेस को उच्च और तकनीकी शिक्षा, स्कूल और चिकित्सा शिक्षा, महिला बाल विकास विभाग मिला है। गठबंधन की इस सरकार में अहम पार्टी एनसीपी को ग्रामीण विकास भी मिला है।

संजय राउत ने कहा कि इस देश से घुसपैठियों को बाहर निकलाना चाहिए, पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों का हनन हुआ है. जिन लाखों-करोड़ों को यहां पर ला रहे हैं, तो क्या उन्हें वोटिंग का हक मिलेगा अगर इन्हें 20-25 साल वोटिंग का हक नहीं मिलता है तो बैलेंस रहेगा।

लोकसभा में सोमवार को नागरिक संशोधन बिल आसानी से पास हो चुका है। अब बुधवार को यह बिल राज्यसभा में पेश होगा। गृहमंत्री अमित शाह आज दोपहर 2 बजे संशोधन बिल राज्यसभा में पेश करेंगे। राज्यसभा में इस बिल पर चर्चा की खातिर 6 घंटे का समय तय किया गया है।

इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने भी कहा कि लोकसभा में बिल का समर्थन करने के बावजूद भी राज्यसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पर हम अलग विचार कर सकते हैं।

महाराष्ट्र में एनसीपी, कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार चला रही शिवसेना ने विवादास्पद नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) का समर्थन करने का फैसला किया है। जबकि कांग्रेस ने पहले ही इस विधेयक को 'असंवैधानिक' करार दिया है।

रविवार को दादर स्थित मुंबई बीजेपी कार्यालय में कोर कमेटी की बैठक हुई। जिसमें प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटील, राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री वी. सतीश, मुंबई बीजेपी अध्यक्ष मंगलप्रभात लोढ़ा आदि ने भाग लिया।

फडणवीस ने आगे कहा कि अजित पवार ने हमसे संपर्क किया और कहा कि राकांपा(एनसीपी) कांग्रेस के साथ नहीं जाना चाहती। तीन पार्टियों की सरकार को नहीं चलाया जा सकता।

महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन के महाविकास अघाड़ी को बीजेपी ने जबरदस्त चोट दी है। उद्धव सरकार बनने के महज एक हफ्ते के अंदर ही ठाणे जिले की भिवंडी महानगर पालिका के मेयर चुनाव में बीजेपी गठबंधन ने चुनाव जीत लिया।

संजय राउत बोले कि शिवसेना पहले से ही ये बात कहती आ रही है कि घुसपैठियों को बाहर निकालना चाहिए, पाकिस्तान-बांग्लादेश-अफगानिस्तान से जो हिंदू-सिख-बौद्ध-जैन आ रहे हैं उनके मसले पर वह केंद्र सरकार के साथ है।

महाराष्ट्र में शिवसेना को बड़ा झटका लगा है। मुंबई के धारावी में करीब 400 शिवसैनिकों ने पार्टी छोड़ दी है। सभी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सदस्यता ग्रहण की है। भाजपा में शामिल होने वाले एक कार्यकर्ता रमेश नदेशन ने कहा कि शिवसेना ने भ्रष्ट और हिंदू विरोधी दलों के साथ हाथ मिला लिया है। इससे हम नाराज हैं।