शिवसेना

महाराष्ट्र भाजपा की आध्यात्मिक विंग ने पत्र में लिखा, "महाराष्ट्र के हर गांव, कस्बे, जिले में करोड़ों लोग भूमि पूजन का कार्यक्रम लाइव टीवी पर देखेंगे। इसलिए भूमि पूजन के दौरान कहीं भी बिजली सेवा खंडित नहीं होगी, यह सुनिश्चित करें।"

नड्डा के बयानों का महत्व है, क्योंकि राजनीतिक अटकलें चल रही हैं कि शिवसेना एमवीए की साझेदारी में राज्य में अगले चुनाव में उतर सकती है। एमवीए पर हमला करते हुए, भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनके मंत्रियों की सरकार राज्य में 'कोविड-19 संकट' से निपटने में विफल रही है।

सीएम उद्धव ने सवाल पूछते हुए कहा कि केंद्र में कितने पहिये हैं? हमारी तो ये तीन पार्टियों की सरकार है। केंद्र में कितने दलों की सरकार है, बताओ ना?

शिवसेना ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान ने इस साल अब तक 2,700 से अधिक बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया है। उद्धव ठाकरे नीत पार्टी ने कहा कि इन घटनाओं में 21 बेकसूर भारतीय नागरिक मारे गए जबकि 94 अन्य घायल हो गए।

दरअसल शुक्रवार को शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाया कि वह आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के लिए गलवान घाटी संघर्ष में भारतीय सैनिकों के दिखाई गई वीरता का इस्तेमाल कर रहे हैं।

महाराष्ट्र सरकार में शिवसेना के सहयोगी दल एनसीपी ने भी प्रधानमंत्री मोदी के प्रति अपना समर्थन जताया। इसके साथ ही एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने चीन के सामने सैनिकों को निहत्थे भेजे जाने के राहुल गांधी के सवाल पर उन्हें आईना भी दिखाया।

बैठक में बीजेपी से अलग होकर महाराष्ट्र में सरकार बनाने वाले शिवसेना प्रमुख ने मोदी सरकार पर भरोसा जताया और कहा कि हमारी सरकार 'आंखें निकालकर हाथ में देने' की क्षमता रखती है।

आज के ही दिन शिवसेना की स्थापना स्वर्गीय बाला साहेब ठाकरे ने की थी। कोरोना महामारी की वजह से 54वें स्थापना दिवस को नहीं मनाने का फैसला लिया गया।

राज्‍य सरकार में कैबिनेट मंत्री अशोक चव्हाण का कहना है कि राज्‍य सरकार उनकी अवहेलना कर रही है और उन्‍हें उनका जायज हक नहीं मिल पा रहा है। चव्हाण का कहना है कि सरकार में बहुत सी चीजें ठीक नहीं चल रही है, जिसके बारे में हम मुख्‍यमंत्री जी से बात करना चाहते हैं।

इसी कड़ी में सत्ताधारी शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिए गठबंधन की साझीदार कांग्रेस पर तंज कसा है। इतना ही नहीं कांग्रेस के मंत्रियों थोराट और अशोक चव्हाण के हालिया बयानों को लेकर पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा है कि पुरानी खाट क्‍यों शोर मचा रही है?