शेयर बाजार

विदेशी बाजारों से मिले मजबूत संकेतों से गुरुवार को लगातार दूसरे दिन घरेलू शेयर बाजार की शुरुआत मजबूती के साथ हुई। बीएसई का प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 200 अंकों से ज्यादा की बढ़त के साथ 32800 के ऊपर खुला और एनएसई का प्रमुख सूचकांक निफ्टी भी पिछले सत्र से 50 अंकों की तेजी के साथ करीब 9365 पर खुला।

घरेलू शेयर बाजार की शुरूआत मंगलवार को जोरदार तेजी के साथ हुई। आरंभिक कारोबार के दौरान बीएसई का प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 400 अंक से ज्यादा की छलांग लगाकर 31,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर चला गया। वहीं, निफ्टी 9100 के ऊपर बना रहा।

भारतीय शेयर बाजार बुधवार को प्रमुख घरेलू कंपनियों के बेहतर नतीजे से गुलजार रहा। जोरदार लिवाली आने से सेंसेक्स 622.44 अंकों यानी 2.06 फीसदी की जबदरस्त तेजी के साथ 30,818.61 पर बंद हुआ और निफ्टी भी 9000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर विराम लिया।

बाजार के जानकार बताते हैं कि कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए टीके के ईजाद की दिशा में प्रगति को लेकर पिछले सत्र मे तेजी आई था, मगर बुधवार को विदेशी बाजारों से कोई उत्साहवर्धक संकेत नहीं मिला, फिर भी घरेलू बाजार में तेजी देखी जा रही है।

शेयर बाजार मंगलवार को बढ़त के साथ बंद हुआ। सुबह सेंसेक्स 421.76 अंक ऊपर और निफ्टी 138.45 पॉइंट ऊपर खुला। दिनभर की ट्रेडिंग के दौरान सेंसेक्स 710 अंक तक ऊपर जाने में कामयाब रहा।

विदेशी बाजारों से मिले मजबूत संकेतों से घरेलू शेयर बाजार में मंगलवार को फिर तेजी लौटी। बीएसई का प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स आरंभिक कारोबार के दौरान 500 अंक से ज्यादा उछला और एनएसई के प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी ने भी 100 अंक से ज्यादा की बढ़त बनाई।

कोरोना के गहराते प्रकोप से भारतीय शेयर बाजार में निराशा का माहौल बना हुआ है जिसके कारण सोमवार को स्टॉक मार्केट में चौतरफा लाल निशान देखा गया और सभी अहम इंडेक्स गिरावट के लाल निशान के साथ बंद हुए।

कोरोना के गहराते प्रकोप के चलते कमजोर विदेशी संकेतों से बीते सप्ताह घरेलू शेयर गिरावट के साथ बंद हुआ, मगर इस सप्ताह बाजार की चाल लॉकडाउन 4.0 के रंग-रूप और सप्ताह के दौरान जारी होने वाले प्रमुख कंपनियों के पिछले वित्तीय वर्ष की चौथी तिमाही के वित्तीय नतीजों से तय होगी।

घरेलू शेयर बाजार की शुरूआत शुक्रवार को मजबूती के साथ हुई लेकिन जल्द ही बाजार में कारोबारी रूझान शिथिल पड़ गया जिसके चलते सेंसेक्स 31000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे आ गया और निफ्टी भी पिछले सत्र से 50 अंकों से ज्यादा की कमजोरी के साथ कारोबार कर रहा था।

कोरोना के कहर से निजात पाने की संभावना निकट भविष्य में धूमिल दिखाई देने से वैश्विक बाजार में आई कमजोरी के चलते गुरूवार को फिर भारतीय बाजार में गिरावट आई सेंसेक्स आरंभिक कारोबार के दौरान करीब 600 अंक टूटा और निफ्टी भी 9200 के नीचे तक लुढ़का।