श्राइन बोर्ड

गौर करने वाली बात ये भी है कि प्रथम चरण में भक्तों को हेलिकॉप्टर सेवा से वंचित रहना पड़ सकता है। मार्च के अंत में हेलिकॉप्टर सेवा को लेकर टेंडर होने थे लेकिन यात्रा बंद होने के कारण यह टेंडर तीन दिन पहले ही खोले गए। नए टेंडर के तहत फिर से ग्लोवल विक्टा व हिमालयन हेली ही सुुविधा मुहैया करवाएंगे।

तीर्थयात्री पवित्र गुफा तक जाने के लिए या तो अपेक्षाकृत छोटे 14 किलोमीटर लंबे बालटाल मार्ग से जाते हैं या 45 किलोमीटर लंबे पहलगाम मार्ग से जाते हैं। बालटाल मार्ग से लौटने वाले श्रद्धालु दर्शन करने वाले दिन ही आधार शिविर लौट आते हैं।

श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड के अधिकारियों ने कहा कि एक जुलाई को यात्रा शुरू होने के बाद से अब तक 16 दिनों में 2,05,083 श्रद्धालुओं ने समुद्र तल से 3,888 मीटर ऊंचाई पर स्थित पवित्र शिवलिंग के दर्शन कर लिए हैं।

नई दिल्ली। वैष्णो देवी के दर्शन को गए बहुत से भक्तों की लीला हैरान कर देने वाली है। वैष्णो देवी...