संघ

विगत कुछ दिनों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को लेकर आम चर्चा है उस पर एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में देश के पूर्व मुख्यन्यायधीश जो की समाज के दलित वर्ग से आते हैं उनके द्वारा कार्यक्रम में सामाजिक न्याय के विषय को उठाना।

शिव नाडर ने महानगर की ओर से आयोजित पथसंचलन का संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ अवलोकन किया। शिव नाडर और मोहन भागवत ने संघ संस्थापक डॉ. हेडगेवार और द्वितीय सर संघचालक गुरुजी की समाधि पर भी श्रद्धासुमन अर्पित किए।

राजस्थान के पुष्कर में आरएसएस की 3 दिन की समन्वय बैठक के आखिरी दिन एक सवाल के जवाब में संघ का यह बयान सामने आया। संघ के संयुक्त महासचिव दत्तात्रेय होसबोले ने स्थिति स्पष्ट की।

RSS की बैठक में कहा गया कि एनआरसी एक बहुत जटिल मुद्दा है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के कारण असम सरकार को इस बारे में सीमित समय में कार्य करना था। असम में बांग्लादेश से बड़ी तादाद में घुसपैठिए गए हैं, वह मतदाता सूची में आ गए हैं, आधार कार्ड में आ गए।

इन संगठनों के पदाधिकारी देशभर में घूमते हैं, समाज के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों से मिलते हैं। अनुभव-आंकलन करते हैं। ऐसे सभी व्यक्ति एकत्रित आकर अपने अनुभवों को साझा करें, इसके लिए ही समन्वय बैठक है।

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया कि आईएसआई पाकिस्तान के लिए खुफियागीरी करते हुए भाजपा के नेताओं को एनएसए में गिरफ्तार कर सख्त सजा मिलनी चाहिए।

मोहन भागवत की ट्विटर प्रोफाइल के मुताबिक उन्होंने मई 2019 में ही इसे जॉइन कर लिया था लेकिन अकाउंट वेरिफाइड अब हुआ है। वहीं, संघ के कई अहम पदाधिकारियों ने बीते कुछ ही दिनों में यहां अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है।

आरएसएस की इस शिविर में कुल 828 स्वयंसेवक शामिल हुए थे। जिन्होंने इस शिविर में प्रशिक्षण लिया ।

वीडियो में सोनू निगम कह रहे हैं कि, "नमस्ते भारतवासियों, सुना है कि आप लोग काफी बवाल मचा रहे हैं और बड़ा दुख व्यक्त कर रहे हैं, कुछ CRPF के लोग मर गए...है ना ? कितने 44 लोग थे ? अरे 44 हों या 440 आप लोग क्यों दुख मना रहे हैं?

राहुल गांधी ने कहा, "इस तरह उनके (मोदी) कहने का मतलब है कि (महात्मा) गांधी ने कुछ नहीं किया, सरदार पटेल, जवाहरलाल नेहरू व अंबेडकर ने कुछ नहीं किया। राज्यों के मुख्यमंत्रियों, किसानों, मजदूरों व लोगों ने कुछ नहीं किया।"