संजय निरूपम

पार्टी की मौजूदा हालत को देखते हुए सिंधिया का मानना है कि कांग्रेस को आत्म अवलोकन करने की जरूरत है। उन्होंने सलाह देते हुए कहा कि मौजूदा समय में कांग्रेस की जो स्थिति है उसका जायजा लिया जाना जरूरी है, ताकि कांग्रेस को आगे बढ़ाया जा सके।

मल्लिकार्जुन खड़गे ने सवाल खड़े किए थे और इसे तमाशा बताया था। अब कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने खड़गे को करारा जवाब दिया है और कहा है कि, ये कोई तमाशा नहीं बल्कि हमारी परंपरा है।

अशोक चव्हाण ने संजय निरुपम के पार्टी में गुटबाजी के आरोप पर कहा कि यह उनकी निजी राय हो सकती है। चव्हाण ने कहा, 'जब तक वो पार्टी में मजबूती के साथ थे, वो अच्छा बोल रहे थे। लेकिन जब बात नहीं बनी तो वो आलोचना कर रहे हैं।'