संजय राउत

कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस किया। पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने कहा कि ना बैंड, ना बाजा, ना बारात और सीएम और डिप्टी सीएम ने शपथ ले ली। ये घटना काली स्याही से लिखी जाएगी।

एनसीपी प्रमुख शरद पवार बोले कि ये अजित पवार का निजी फैसला है। ये फैसला पार्टी की विचार धारा के खिलाफ है। कुछ निर्दलीय विधायक हमारे साथ थे। कुछ विधायक बीजेपी के साथ गए हैं।

रातों-रात सारा घटनाक्रम हुआ। रात 9:30 बजे के आसपास देवेंद्र फडणवीस राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के पास सरकार बनाने का दावा पेश करने पहुंचे। फडणवीस ने अपने पास 173 विधायकों के समर्थन होने का दावा किया।

महाराष्ट्र की राजनीति में रातों-रात जो उलटफेर हुआ है उससे उद्धव ठाकरे के सितारे गर्दिश में चले गए मगर इस कहानी का असली खलनायक संजय राऊत को माना जा रहा है।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, तीनों दलों की बैठक के बाद भारतीय राजनीति का सबसे बड़ा उलटफेर एक चिट्ठी के जरिये रचा गया। इसके बाद राज्यपाल ने रात में ही केंद्र से सरकार बनाने की सिफारिश की

महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि पार्टी और परिवार में टूट हो गई है।

शिवसेना ने बीजेपी के सामने ढाई-ढाई साल के मुख्यमंत्री पद बांटने की शर्त रख दी. बीजेपी तैयार नहीं हुई और शिवसेना दूसरी पार्टियों के साथ सरकार बनाने के विकल्प तलाशने में जुट गई।

संजय राउत ने कहा कि आखिरी वक्त तक अजित पवार हमारे साथ थे। अजित पवार ने शरद पवार को धोखा दिया है। कल रात अजित पवार बैठक में मौजूद थे। अजित पवार को ईडी की जांच का डर है।

बीजेपी के इस दाव से शिवसेना और कांग्रेस के चित होने के बाद कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार पर निशाना साधा है।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता नवाब मलिक ने शनिवार को कहा कि पार्टी अध्यक्ष शरद पवार महाराष्ट्र में शनिवार को गठित हुई नई सरकार से नाखुश हैं।