संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र विशेषज्ञों ने चीन को एकबार फिर मौलिक अधिकारों के हनन को लेकर चेतावनी दी है। संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि चीन मौलिक अधिकारों की स्वंत्रता का दमन बंद करे।

भारत पर हमला या बदनाम करने की किसी भी साजिश से पाक पीछे नहीं हटना चाहता है। यह अलग बात है कि उसकी कई कोशिशों के बाद भी पाकिस्तान को हर बार मुंह की खानी पड़ती है। ऐसा ही कुछ इस बार भी हुआ। दरअसल,आतंकवाद को समर्थन देने के मुद्दे पर पाकिस्‍तान भारत को भी फंसाने की योजना में था। जिसको अमेरिका ने विफल कर दिया है।

विदेश मंत्री डॉ. जयशंकर ने भारत को UNSC में अस्थायी सदस्य चुने जाने पर विदेश मंत्रालय की टीम और भारतीय यूएन टीम को बधाई दी है।

भारत आतंकवाद से लड़ने और बहुपक्षवाद व समानता पर आधारित अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली के लिए प्रतिबद्धता के साथ अपना चुनाव अभियान चला रहा है। अपने अभियान दस्तावेज में, भारत ने '5-एस दृष्किोण' सम्मान, संवाद, शांति और समृद्धि, को पेश किया है।

संयुक्त राष्ट्र में कोरोना वायरस पर गलत सूचना से निपटने के लिए भारत ने तथ्य आधारित सामग्री का प्रचार करने के मकसद से एक पहल की अगुवाई की है। कोविड-19 वैश्विक महामारी से संबंधित भ्रामक सूचना से निपटने के लिए 130 से अधिक देश इस पहल का समर्थन कर रहे हैं। 

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र में 5 स्थाई सदस्यों के साथ ही 10 अस्थाई सदस्य शामिल होते हैं। 10 अस्थाई सदस्यों का चुनाव हर साल होता है। संयुक्त राष्ट्र महासभा के अस्थाई सदस्यों के लिए 17 जून को वोटिंग होगी।

संयुक्त राष्ट्र का एशियाई देशों पर गुस्सा फूटा हैं। संयुक्त राष्ट्र की एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि चीन और भारत समेत कई एशियाई देश अपने यहां कोरोनावायरस के नाम पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर लगाम कस रहे हैं, सख्त प्रतिबंध लगा रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘जब तक कोविड-19 वैश्विक समस्या से समग्र रूप से निपटा नहीं जाता है, इसके लिए कोई वैश्विक समधान नहीं ढूंढा जाता, तब तक दुनिया इस संकट से निजात नहीं पा सकती।’

भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर घेरने की सारी कोशिशें पाकिस्तान की नाकामयाब हो रही हैं। पाकिस्तान लगातार इस कोशिश में लगा है कि वह दुनिया के देशों को समझा बुझाकर किसी तरह भारत के खिलाफ कर दे।

यूएन महासचिव  एंटोनियो गुटेरस ने इनका उल्लेख सशक्त रोल मॉडल्स के तौर पर किया है। गुटेरेस दोनों को संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षक अंतरराष्ट्रीय दिवस के दिन 29 मई को एक ऑनलाइन कार्यक्रम के जरिए सम्मानित करेंगे।