संस्कृति

यदि उक्त विधि को करना किसी के लिए संभव न हो, तब वह जल को पात्र में काले तिल डालकर दक्षिण दिशा की ओर मुँह करके तर्पण कर सकता है।

पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज भूटान के भविष्य के साथ हूं। उन्होंने कहा कि भारत और भूटान के साथ ऊर्जा समेत कई क्षेत्रों में काम कर रहा है।

भारतीय परंपरा में श्राद्ध का काफी महत्व है। त्रिपिंडी श्राद्ध करने का अधिकार विवाहित पति-पत्नी के जोड़े को होता है। जिसकी पत्नी जीवित नहीं है, उसे भी यह अधिकार है।

कहीं थाली में जूठन छोड़ना, आपको नुकसान तो नहीं पहुंचा रहा है। छोटी-छोटी गलतियां करने से हमारा दुर्भाग्य बढ़ता है और सौभाग्य कम होता है।

क्या आपको पता है प्रयागराज कुम्भ में झारखण्ड पवेलियन प्रदर्शित कर रहा है प्रदेश की संस्कृति, आस्था और प्राकृतिक सौन्दर्य की झलक। जी हां विश्व में आस्था का सबसे बड़ा समारोह प्रयागराज कुम्भ अपने चिर परिचित अंदाज में आयोजित हो रहा है।

पद्मश्री और संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार विजेता कथक नृत्यांगना शोभना नारायण युवाओं में कथक के प्रति आर्कषण को उम्मीद भरी नजरों से देखती हैं।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 20वां अंतर्राष्ट्रीय नाट्य समारोह 'भारत रंग महोत्सव' 1 फरवरी से शुरू होगा, जो 21 फरवरी तक चलेगा। महोत्सव के दौरान विभिन्न रंग टोलियों के 111 शो व अन्य संबद्ध कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जैसे- 'डायरेक्टर से मुलाकात', 'लिविंग लेजेंड' और मास्टर क्लास

कुम्भ का पौराणिक महत्त्व और इतिहास– कुम्भ हमारी संस्कृति में कई दृष्टियों से महत्त्वपूर्ण है। पूर्णताः प्राप्त करना हमारा लक्ष्य...