सऊदी अरब

राष्ट्रीय खुफिया निदेशक (ओडीएनआई) के कार्यालय द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कहा गया, "हम आकलन करते हैं कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सऊद ने सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी को पकड़ने और मारने के लिए इस्तांबुल में एक ऑपरेशन को मंजूरी दी थी।"

सऊदी अरब (Saudi Arabia) के विदेश मंत्री फैसल बिन फरहान अल-सऊद (Faisal bin Farhan Al-Saud) ने घोषणा की है कि आने वाले दिनों में वह कतर (Qatar) में अपने दूतावास को फिर से खोल देगा।

israel pm benjamin netanyahu visit saudi arabia: इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) ने रविवार को गुपचुप तरीके से सऊदी अरब का दौरा किया है।

Saudi Arabia: जी-20 शिखर सम्मेलन से पहले सऊदी अरब ने बड़ा फैसला लिया है। दरअसल सऊदी अरब ने रियाद के नोट पर छपे भारत के गलत नक्शे को वापस ले लिया है। बता दें कि जी-20 शिखर सम्मेलन 21-22 नवंबर को होने जा रहा है।

Reliance Retail: रिलायंस रिटेल (Reliance Retail) में निवेश (Investment) का सिलसिला 9 सितंबर को सिल्वर लेक से शुरू हुआ था, उसके बाद केकेआर, जनरल अंटलांटिक, मुबाडला, जीआईसी, टीपीजी और एडीआईए जैसे वैश्विक निवेश फंड इंवेस्टमेंट कर चुके हैं।

India: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने फ्रांस में हुए आतंकी हमलों की निंदा की है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर पीड़ित परिवारों के प्रति सहानुभूति प्रकट की है और कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत फ्रांस के साथ है।

Saudi Arabia: मीडिया रिपोर्टों के अनुसार 21-22 नवंबर को सऊदी अरब ने जी -20 शिखर सम्मेलन के आयोजन की अपनी अध्यक्षता के लिए एक 20 रियाल(Saudi Riyal) का बैंकनोट(Bank Note) जारी किया।

पाकिस्‍तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक ओआईसी(OIC) की बैठक न होने के पीछे एक बड़ी वजह सऊदी अरब है। सऊदी अरब ओआईसी के जरिए भारत(India) को कश्‍मीर(Kashmir) पर चित करने की पाकिस्‍तानी(Pakistan) चाल में साथ नहीं दे रहा है।

साउदी(Saudi) अरामको(Aramco) चीन(China) के साथ ही भारत में भी बड़ा निवेश कर चुकी है। अरामको ने भारत में 44 अरब डॉलर का निवेश किया है। यह निवेश महाराष्ट्र के रत्नागिरी मेगा रिफाइनरी प्रॉजेक्ट में किया गया है।

पाकिस्तान (Pakistan) के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Foreign Minister Shah Mehmood Qureshi) ने कश्मीर (Kashmir) विवाद के संबंध में सऊदी अरब (Saudi Arabia) के नेतृत्व वाले इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) के खिलाफ बयान दिया था, जिसके बाद सऊदी की ओर से तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की गई थी।