सत्यपाल मलिक

सत्यपाल मलिक ने कहा, प्रधानमंत्री ने कहा था कि हम जम्मू और कश्मीर में पंचायत चुनाव कराएंगे। मैंने प्रोटोकॉल तोड़ा और उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के घर गया। उन्होंने पाकिस्तान के दबाव में हिस्सा (पंचायत चुनाव में) लेने से इनकार कर दिया।

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के अलग-अलग केंद्रशासित राज्य बनने के बाद दोनों राज्यों में पहली बार उपराज्यपाल की तैनाती का फरमान शुक्रवार की देर शाम जारी हो गया। अभी तक बतौर राज्यपाल यहां का काम देख रहे सत्यपाल मलिक को गोवा का राज्यपाल बनाया गया है।

राज्य में एक कार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में मलिक ने कहा, 'बीते 15 दिन से हमारे बहुत सारे मंत्री जिन्हें कई बार अंतरराष्ट्रीय मामलों पर बोलने का मौका नहीं मिलता, वो बराबर पीओके पर चढ़ाई किए हुए हैं।

ट्रिब्यूनल ने अपने फैसले में कई अहम सबूतों और गवाहों का जिक्र किया है। ट्रिब्यूनल ने पाया कि जमात ए इस्लामी के सदस्य सक्रिय तौर पर आतंकी गतिविधियों में शामिल रहे हैं।

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने के बाद अब सरकार उसके कायाकल्प की कवायद में जुट गई है। सरकार की योजना कश्मीर में विकास की गंगा बहाने की है।

सत्यपाल मलिक ने कहा कि राहुल गांधी ने उनके निमंत्रण को व्यवसाय में बदल दिया। मैंने कहा था कि अगर आपको हमारे पर भरोसा नहीं है तो आइए और जमीनी तस्वीर को देखिए। लेकिन राहुल गांधी ने कहा कि वो नजरबंद नेताओं से मिलेंगे, सेना से मिलेंगे।

राहुल गांधी कल शनिवार को जम्मू कश्मीर में श्रीनगर जाएंगे। राहुल के साथ विपक्षी दल के 9 नेता भी श्रीनगर जाएंगे। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद राहुल गांधी पहली बार जम्मू कश्मीर के लिए रवाना होंगे।

इस मौके पर एकत्र हुए लोगों को संबोधित करते हुए मलिक ने कहा कि सरकार कश्मीरी पंडितों की सुरक्षित वापसी को लेकर प्रतिबद्ध है, जो 1990 में हजारों की संख्या में घाटी छोड़कर चले गए थे।

राज्यपाल मलिक ने राहुल से खुद घाटी में आकर हालात देख लेने को कहा था। कांग्रेस नेता ने अगले दिन उन्हें जवाब दिया है। राहुल गांधी ने केंद्र द्वारा अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी किए जाने के बाद कश्मीर में हिंसापूर्ण घटनाएं होने का दावा किया था।

तमिलनाडु कैडर के 1975 बैच के इस आईपीएस ऑफिसर का नाम के. विजय कुमार है जो अभी जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के सलाहकार हैं। के. विजय कुमार बीएसएफ के आईजी के तौर पर भी कश्मीर घाटी में अपनी सेवाएं दे चुके हैं।