सरकार

प्रवासी मजदूरों और बेरोजगारों को लेकर सोनिया गांधी ने कहा कि, प्रवासी मजदूर अब भी फंसे हुए हैं, बेरोजगार हैं और घर लौटने को बेताब हैं। वह सबसे कठिन दौर से गुजर रहे हैं।

खासतौर पर विकासशील देशों के लिए यह सबसे गंभीर अपराध है। इससे सामाजिक और आर्थिक विकास की रफ्तार धीमी होती है। इससे राष्ट्रीय सुरक्षा भी प्रभावित होती है। करोड़ों लोग उचित शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल सुविधा और अन्य जनसुविधाओं को हासिल नहीं कर पाते हैं।

सरकार का उद्देश्य टीबी के प्रत्येक रोगी तक पहुंच कर उसे सही व सटीक उपचार पहुंचाना है। दूर दराज के क्षेत्रों व गांवों में टीबी रोगियों के लिए दवा पहुंचाना काफी जटिल है। इसके लिए सरकार ने सामुदायिक सहयोग, सहायता व संचार, स्वास्थ्य आरोग्य केंद्र तथा क्षय रोग अंतर-मंत्रालयी सहयोग शुरू किया है।

अजित पवार अपनी गतिविधियों से राजनीतिक पंडितों को हैरान कर रहे हैं। इस मुलाकात को लेकर प्रदेश के सियासी गलियारों में अटकलबाजियों का दौर एक बार फिर से शुरू हो गया है। हालांकि सफाई देते हुए अजित पवार ने इसे शिष्‍टाचार भेंट बताया।

शुक्रवार रात 11.45 बजे से शनिवार सुबह नौ बजे तक अजीत फडणवीस के साथ रुके और शपथ ग्रहण से पहले उन्हें नहीं जाना था।

जानकारों के मुताबिक मुलाकात के दौरान दोनों हस्तियों की 'बॉडी लैंग्वेज' में फर्क था और यह सहज नहीं थी। किसी की मुस्कराहट नहीं रुक रही थी और किसी की गंभीरता खत्म नहीं हो रही थी।

दिल्ली के अलावा 20 राज्यों की राजधानी से सैंपल लेकर जांच करायी गई है। केंद्र सरकार इस मामले में राज्यों का भी सहयोग ले रही है।

इससे बड़े पैमाने पर नए प्रोजेक्ट आएंगे। कमर्शियल प्रोजेक्ट में बड़े व्यावसायिक निर्माण के साथ ही छोटे स्टार्टअप शुरू करने के लिए युवा निवेशकों को प्राइम एरिया में जगह मिल सकेगी।

सभी ऑनलाइन आवेदन डीडीए के पोर्टल डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट डीडीए डॉट ओआरजी डॉट इन [www.dda.org.in] पर किए जाएंगे। आवेदन निजी स्तर पर भी किए जा सकेंगे और विभिन्न स्थानों पर संचालित डीडीए के नागरिक सेवा केंद्रों की सहायता से भी जमा कराए जा सकेंगे।

देश की एकमात्र सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल ने सरकार को एक SOS भेजा है जिसमें कंपनी ने ऑपरेशंस जारी रखने में लगभग अक्षमता जताई है। कंपनी ने कहा है कि कैश कमी के चलते जून के लिए लगभग 850 करोड़ रुपये की सैलरी दे पाना मुश्किल है। कंपनी पर अभी करीब 13 हजार करोड़ रुपये की आउटस्टैंडिंग लायबिलिटी है जिसके चलते बीएसएनएल का कारोबार डांवाडोल हो रहा है।