सरदार पटेल

देश के पहले उप प्रधानमंत्री पटेल का निधन 15 दिसंबर 1950 को हुआ था। भारत के लौह पुरुष के नाम से प्रसिद्ध पटेल का कई रियासतों का भारत में विलय कराने में बहुत योगदान था।

एकता दिवस के मौके पर देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि, हम लोगों ने सरदार पटेल जी के ये विचार सुने। उनकी वाणी में जो शक्ति थी, उनके विचारों में जो प्रेरणा थी, उसे हम महसूस कर सकते हैं।

प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता प्रीतम धालीवाल ने कहा, "हालांकि गुजरात में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी सरदार पटेल का उपयुक्त मेमोरियल है, लेकिन राष्ट्र निर्माण में उनकी भूमिका को स्वीकार करते हुए दिल्ली में भी उनका मेमोरियल होना चाहिए।

देश के पहले उपप्रधानमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की 144वीं जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के केवडिया में बनी स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

दक्षिणी गुजरात के आदिवासी बहुल तापी जिले के सोनगढ़ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत कांग्रेस पर हमले से की। कश्‍मीर मुद्दे पर कांग्रेस की नीति की आलोचना करते हुए मोदी बोले, 'कश्‍मीर के एक नेता कहते हैं देश में दो प्रधानमंत्री होने चाहिए, यह बात आपको भी मंजूर नहीं और सरदार साहब को भी मंजूर नहीं थी। आज हालत यह है कि कश्‍मीर में जवानों का बलिदान नित्‍य क्रम बन गया है।'

नई दिल्ली। क्या 3,000 करोड़ रुपये की लागत से बनी दुनिया की सबसे लंबे कद की मूर्ति में एक महीने के...

नई दिल्ली। भारत के राजनीतिक इतिहास में सरदार पटेल के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। पटेल नवीन भारत...

नई दिल्ली। देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की 143वीं जयंती मनाई जा रही है। इस अवसर पर राष्ट्रपति...

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य गुजरात को उम्मीद है कि लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की दुनिया...

नई दिल्ली। दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा ‘स्टेचू ऑफ यूनिटी’ बनकर लगभग तैयार हो गई है। 182 मीटर ऊंची इस...