सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर

भारतीय जनता पार्टी की भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को मिली संदिग्ध चिट्ठी, जिसमें पीएम मोदी और NSA अजीत डोभाल की तस्वीर पर क्रॉस लगा मिला।

भोपाल के माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय में मचा तूफान थमने का नाम नहीं ले रहा है। छात्रों के आंदोलन के बाद अब वहां छात्राएं भी धरने पर बैठ गई हैं। यह वे विद्यार्थी हैं जो विश्वविद्यालय प्रशासन के रवैए और शिक्षा के नाम पर जाति धर्म को अपशब्द कहने वाले अध्यापकों से बेहद नाराज हैं।

महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताना भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को महंगा पड़ गया। संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने साध्वी प्रज्ञा को रक्षा मंत्रालय की संसदीय समिति से निकाल दिया है। इसके साथ ही सत्र के दौरान होने वाले भाजपा संसदीय दल की बैठकों में भी साध्वी प्रज्ञा को नहीं आने का फरमान सुनाया गया है।

भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को रक्षा मंत्रालय की संसदीय सलाहकार समिति के लिए नामित किए जाने पर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार पर हमला बोलते हुए गुरुवार को कहा कि यह विडंबना है कि इस तरह के सदस्य को उन्होंने जगह दी, जबकि उनके पास कई साफ छवि वाले नेता हैं। कांग्रेस सचिव प्रणव झा ने आईएएनएस से कहा, "यह विडंबना है कि ऐसे इंसान को सरकार ने रक्षा समिति में जगह दी है।"

भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को रक्षा मंत्रालय की कमेटी में बड़ी जिम्मेदारी मिली है। साध्वी प्रज्ञा को रक्षा मंत्रालय की कमेटी का सदस्य बनाया गया है, इस कमेटी की अगुवाई रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कर रहे हैं।

भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने एक बार फिर से तूफान खड़ा करने वाला बयान दे दिया है। उन्होंने इस बार देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को निशाने पर ले लिया है। प्रज्ञा ठाकुर ने नेहरू को अपराधी करार दिया है। साध्वी प्रज्ञा ने यह बयान कश्मीर मामले में नेहरू की भूमिका के संदर्भ में दिया है।