सिंघु बॉर्डर

Farmers Protest: बता दें कि इससे पहले सिंघु बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों के खिलाफ स्थानीय निवासी प्रदर्शन करने आए और इसी बीच दोनों गुटों में संघर्ष हो गया था। इस बवाल के दौरान पुलिसवालों को भी निशाना बनाया गया था। अलीपुर थाने में तैनात एसएचओ पर प्रदर्शनकारियों ने तलवार से हमला कर दिया था। जिसमें उन्हें गभीर चोटें भी आई थी। 

Chakka Jam: इसके अलावा किसान नेता दर्शन पाल ने चक्का जाम को लेकर कहा कि, 'चक्का जाम' सफल और शांतिपूर्ण रहा। कर्नाटक और तेलंगाना में कुछ समस्या सामने आई है, कुछ लोगों को हटाया गया है।

Darshan Pal Singh: किसान नेता दर्शन पाल ने चक्का जाम को लेकर कहा कि, 'चक्का जाम' सफल और शांतिपूर्ण रहा। कर्नाटक और तेलंगाना में कुछ समस्या सामने आई है, कुछ लोगों को हटाया गया है।

Ghazipur Border: तकरीबन 2 महीने से दिल्ली-यूपी(Delhi-UP) स्थित गाजीपुर बॉर्डर पर किसान तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को रद्द कराने की मांग को लेकर धरने पर बैठे हैं।

Chakka Jam: दरअसल न्यूज एजेंसी एएनआई ने लुधियाना में हुए चक्का जाम(Chakka Jam) की एक तस्वीर जारी की है, इस तस्वीर में एक ट्रैक्टर पर एक झंडा लगा हुआ है जो जरनैल सिंह भिंडरावाले(Bhindranwale) की छवि जैसी दिखाई दे रही है।

Home Ministry: 6 फरवरी को किसान संगठनों द्वारा बुलाया गया चक्का जाम शांतिपूर्ण तरीके से खत्म हो गया है। इसको लेकर खबर सामने आई है कि इस चक्का जाम का असर पूरे भारत में कम ही देखने को मिला।

Kisan Andolan Chakka Jaam: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर में 12-3 बजे तक चला चक्का जाम खत्म हो गया है। किसानों नेताओं ने चक्का जाम खत्म किए जाने का ऐलान किया।

UP and Uttarakhand Chakka Jam': इससे पहले राकेश टिकैत(Rakesh Tikait) ने कहा था कि यूपी और उत्तराखंड में भी कल चक्का जाम नहीं होगा। वहीं टिकैत ने कहा कि जो लोग यहां नहीं आ पाए वो अपने-अपने जगहों पर कल चक्का जाम शांतिपूर्ण तरीके से करेंगे।

Chakka Jam: किसान नेता(Farmer Leader) ने कहा कि हम शांतिपूर्ण तरीक़े से सिंघु(Singhu Border) और टिकरी बॉर्डर पर बैठे रहेंगे। दोपहर 3 बजे जब चक्का जाम ख़त्म होगा तो हम एक साथ एक मिनट के लिए अपनी गाड़ियों का हार्न बजाएंगे।

Farmers Protest: सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर रिपोर्टिंग के दौरान एक पत्रकार को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पत्रकार का नाम मनदीप पुनिया (Mandeep Punia) है और यह फ्रीलांस जर्नलिस्ट के तौर पर काम करता है। आपको बता दें कि मनदीप कारवां के लिए फ्रीलांस जर्नलिस्ट के तौर पर काम करता है। जिसे सिंघु बॉर्डर से दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। मनदीप पूनिया कारवां के अलावा एक और मीडिया संस्‍थान के लिए फ्रीलांस काम करते हैं।