सिख विरोधी दंगा

कमलनाथ शुरू में इस मामले के आरोपी थे, लेकिन अदालत को उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला था। अब गांधी परिवार के वफादार माने जाने वाले 72 वर्षीय कांग्रेस नेता के लिए फिर से परेशानी खड़ी हो गई है।

सिरसा ने ट्वीट कर कहा, "अकाली दल के लिए बड़ी जीत। 1984 में हुए सिख-विरोधी दंगों के मामले में मुख्यमंत्री कमलनाथ की भूमिका की जांच के लिए एसआईटी ने मामले को खोला है।"

नई दिल्ली। 1984 के सिख विरोधी दंगों के मामले में  हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने सज्जन कुमार...