सीजेआई

रंजन गोगोई ने अपने कार्याकाल के आखिरी दिन सुप्रीम कोर्ट को कवर करने वाले पत्रकारों को चिट्ठी लिखी है और उनको धन्यवाद कहा है। 

हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने इसमें कुछ नियम भी जारी किए हैं। फैसले में कहा गया है कि CJI ऑफिस एक पब्लिक अथॉरिटी है, इसके तहत ये RTI के तहत आएगा। हालांकि, इस दौरान दफ्तर की गोपनीयता बरकरार रहेगी।

अगले 24 घंटे के भीतर एक बेहद ही महत्वपूर्ण फैसला आने वाला है। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस का दफ्तर आरटीआई के दायरे में आना चाहिए या नहीं इस मुद्दे पर बुधवार को फैसला आ सकता है।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने रविवार को 'संस्थागत अस्थिरता लाने वालों' पर निशाना साधते हुए कहा कि उनका पूरी तरह से असत्यापित आरोपों को समर्थन देना भारत के मुख्य न्यायाधीश की संस्था को अस्थिर कर रहा है।

भारत के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के आरोप की स्वतंत्र जांच की मांग को लेकर सोमवार को प्रदर्शनकारी सर्वोच्च न्यायालय परिसर के बाहर एकत्र हुए।

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस (सीजेआई) दीपक मिश्रा के रिटायरमेंट में एक सप्ताह से भी कम ही वक्त...