सुषमा स्वराज

बीजेपी नेता और और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की आज पहली पुण्यतिथि है। पिछले साल आज ही के दिन सुषमा का हृदय गति रुक जाने से निधन हो गया था। इस मौके पर उन्हें राजनीति जगत दिजग्गों ने श्रद्धांजलि दी।

सुषमा के विदेश मंत्री के कार्यकाल के दौरान उनकी सक्रियता की काफी तारीफ होती थी। वह बीजेपी की दिग्गज नेता में शुमार होती थीं। सुषमा दिल्ली की सीएम भी रह चुकी थीं।

पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की दिगंवत नेता सुषमा स्वराज का आज 68वां जन्मदिन है। जन्मदिन के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई दिग्गजों ने उन्हें याद किया।

14 फरवरी को पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का जन्मदिन है। इस मौके पर केंद्र सरकार ने प्रवासी भारतीय केंद्र का नाम बदलकर पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के नाम पर करने का निर्णय लिया है।

भारतीय राजनीति में इस साल कुछ घटनाएं ऐसी हुईं, जिनका जब भी जिक्र होगा तो 2019 की याद हमेशा आएगी। 2020 का स्वागत करने के साथ ही इन घटनाओं को भी याद करना जरूरी होगा। साल 2019 में एनडीए गठबंधन को फिर से केंद्र की सत्ता मिल गई लेकिन भाजपा के कई दिग्गज नेताओं को खोने का दुःख भी इस साल पार्टी के हिस्से में आया। पार्टी को इससे बड़ा झटका लगा।

साल 2019 में एनडीए गठबंधन को फिर से केंद्र की सत्ता मिल गई लेकिन भाजपा के कई दिग्गज नेताओं को खोने का दुःख भी इस साल पार्टी के हिस्से में आया।

सुषमा स्वराज ने अपनी सर्जरी को लेकर कही थी ये बात

स्वराज कौशल ने बताया कि एम्स के डॉक्टर सुषमा के किडनी ट्रांसप्लांट की सर्जरी को भारत में करने के लिए तैयार नहीं थे। लेकिन वह नहीं मानी और विदेश जाने से साफ इंकार कर दिया।

गौरतलब है कि गीता के माता-पिता के तौर पर 24 से अधिक लोग दावा कर चुके हैं, इनमें से कई का तो डीएनए टेस्ट भी करवाया गया था। मगर किसी का भी डीएनए गीता के डीएनए से मेल नहीं खाया।

साल्वे ने हेग स्थित अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में जाधव मामले की सुनवाई के दौरान भारत का प्रतिनिधित्व 1 रुपये की फीस पर किया था। लेकिन हरीश साल्वे को उनकी फीस मिलने से पहले ही सुषमा स्वराज का निधन हो गया था। अब हरीश साल्वे को उनकी फीस मिल गई है।