सोना

अमेरिका और ईरान के बीच टकराव से खाड़ी क्षेत्र में गहराते फौजी तनाव के कारण महंगी धातुओं के दाम में जोरदार उछाल आया है। भारत में सोने का भाव सोमवार को 41,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर गया है और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भी सोना करीब साढ़े छह साल के बाद के ऊंचे स्तर पर चला गया है। 

हेमंत सोरेन सरकार के लिए यह एक सुनहरी शुरुआत है। शपथ लेने के साथ ही सरकार को बड़ी मात्रा में सोना मिलेगा।

देश में बीते महीने महंगी धातुओं के दाम में गिरावट पर लिवाली बढ़ने से सोने का आयात बढ़कर पिछले पांच महीने के सबसे ऊंचे स्तर पर चला गया। भारत ने नवंबर में 78 टन सोना आयात किया जोकि मई के बाद का सबसे ऊंचा स्तर है।

मंत्रालय ने बताया कि भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम 2016 के तहत केंद्र सरकार ने सोने आभूषण व कलाकृति की हॉलमार्किंग करने के लिए धारा 14 और 16 के तहत प्रावधानों को सक्षम बनाया है, जिससे सोने के समान बेचने वाले सभी आभूषण विक्रेताओं को बीआईएस के पास पंजीकरण करवाना अनिवार्य होगा और सिर्फ हॉलमार्क वाले सोने के आभूषण व कलाकृतियां ही बेची जाएंगी।

मंदी की आहट के चलते सोने-चांदी की कीमतों में तेजी देखने को मिली और गुरुवार को दोनों धातुओं के भाव ने एक नया रिकॉर्ड बनाया। सोने का भाव 40 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम के पार चला गया, वहीं चांदी की कीमत 50 हजार रुपये के करीब पहुंच गई है।

एमसीएक्स पर बुधवार रात 22.33 बजे सोने के अक्टूबर वायदा अनुबंध में पिछले सत्र से 461 रुपये यानी 1.22 फीसदी की तेजी के साथ 38,236 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था। इससे पहले भाव 38,340 रुपये तक उछला। 

केंद्रीय बैंक ने लगातार आठ महीने तक सोने का भंडार बढ़ाया है। केंद्रीय बैंक द्वारा अपनी वेबसाइट पर जारी आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2016 के अक्तूबर के अंत से वर्ष 2018 के नवंबर के अंत तक केंद्रीय बैंक में सोने का भंडार 5 करोड़ 92 लाख 40 हजार औंस पर बरकरार रहा।

वहीं, भारतीय वायदा बाजार एमसीएक्स पर सोने का भाव फिर नई ऊंचाई पर चला गया है। अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वॉर और प्रमुख एशियाई करेंसी में आई कमजोरी के चलते महंगी धातुओं के दाम में जोरदार उछाल आया है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने में लगातार चार दिनों से जबकि चांदी में तीन दिनों से तेजी का सिलसिला जारी है।

आम बजट में महंगी धातुओं पर आयात शुल्क में 2.5 फीसदी की वृद्धि की घोषणा के बाद सोने के दाम में जबरदस्त तेजी आई है और पीली धातु का भाव घरेलू वायदा बाजार में बीते सप्ताह गुरुवार को सबसे ऊंचे स्तर 35,145 रुपये प्रति 10 ग्राम पर चला गया।

पिछले सप्ताह आम बजट 2019-20 संसद में पेश करते हुए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने महंगी धातुओं पर सीमा शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.50 फीसदी करने की घोषणा की। केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि सोने और चांदी में आई हालिया तेजी विदेशी बाजार से प्रेरित है जहां अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व के प्रमुख जेरोम पॉवेल द्वारा आगे ब्याज दरों में कटौती का संकेत देने से महंगी धातुओं में तेजी का रुझान बना हुआ है।