स्विस बैंक

स्वीस बैंक ने भारत सरकार को भारतीय नागरिकों के खाते के बारे में जानकारियों की पहली सूची सौंप दी है। दोनों देशों के बीच हुए ऑटोमैटिक एक्सचेंज ऑफ इन्फॉर्मेशन फ्रेमवर्क (AEOI) के तहत यह संभव हो सका है।

स्विस बैंकों ने दी बंद हो चुके खातों की जानकारी, कार्रवाई के डर से बंद हुए थे ये खाते

स्विट्जरलैंड ने आटोमेटिक सूचना आदान प्रदान व्यवस्था के तहत इसी महीने में सूचनाओं की पहली लिस्ट भारत को सौंप दी है। आगे से यह जानकारी हर माह भारत सरकार को मिलेगी।

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने कालेधन से लड़ाई के खिलाफ इस कदम को काफी अहम करार दिया है। बोर्ड ने कहा है कि सितंबर से 'स्विस बैंक से जुड़ी गोपनीयता' का दौर समाप्त हो जाएगा।

स्विस बैंक में धन जमा करने वाले देशों की सूची में भारत का 74वां स्थान है, जबकि ब्रिटेन लिस्ट में टॉप पर है। स्विट्जरलैंड स्थित बैंक द्वारा जारी आंकड़ों से ये जानकारी सामने आई है। पिछले साल भारत 15 पायदान की छलांग के साथ सूची में 73वें स्थान पर था।

खाते सीज किए जाने पर स्विस बैंक की तरफ से एक रिलीज भी जारी की गई है, जिसमें बताया गया है कि भारत की मांग पर उन्होंने नीरव और पूर्वी मोदी के चार खाते सीज कर लिए हैं।