हेमंत सोरेन

इससे पहले सरकार के एक और मंत्री आलमगीर आलम ने तमाम नियमों और लॉकडाउन की धज्जियां उड़ाते हुए बसों में ठूंस-ठूंसकर लोगों को रांची से बाहर भिजवाने का काम किया था।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शनिवार को यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आधिकारिक आवास पर मुलाकात की और राज्य से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की।

झारखंड के 11 वें मुख्यमंत्री के तौर पर हेमंत सोरेन ने शपथ ग्रहण किया। हेमंत सोरेन की पार्टी झामुमो कांग्रेस और राजद के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन कर मैदान में उतरी थी।

झारखंड के मुख्यमंत्री के तौर पर हेमंत सोरेन आज दोपहर 2 बजे शपथ लेंगे। बीते चुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और आरजेडी के गठबंधन को बहुमत मिला था।

झारखंड के मुख्यमंत्री पद की रविवार को शपथ लेने जा रहे झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के प्रमुख हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में भारतरत्न से सम्मानित पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी शामिल होंगे।

हेमंत सोरेन सरकार के लिए यह एक सुनहरी शुरुआत है। शपथ लेने के साथ ही सरकार को बड़ी मात्रा में सोना मिलेगा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगी। सूत्रों के मुताबिक, 29 दिसंबर को रांची में हेमंत सोरेन मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे, जहां बनर्जी भी उपस्थित होंगी।

झारखंड के भावी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे और 29 दिसंबर के शपथ ग्रहण समारोह के लिए उन्हें आमंत्रित करेंगे। हेमंत सोरेन कांग्रेस के शीर्ष नेताओं से मिलकर राज्य में गठबंधन सरकार के गठन पर चर्चा भी करने वाले हैं।

झारखंड में भाजपा की हार और गठबंधन की जीत के बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) नेता हेमंत सोरेन के मुख्यमंत्री बनने का रास्ता साफ हो गया है। मुख्यमंत्री बनने के बाद भी हेमंत सोरेन के सामने चुनौतियां कम नहीं होंगी।

अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, "भाजपा को 5 वर्षो तक प्रदेश की सेवा करने का जो मौका दिया था, उसके लिए हम जनता का हृदय से आभार व्यक्त करते हैं। भाजपा निरंतर प्रदेश के विकास के लिए कटिबद्ध रहेगी।"