15 अगस्त

इतिहास (History) मार्गदर्शक होता है और संस्कृति प्रेरक। इतिहास की गलतियां सबक सिखाती हैं। संस्कृति के प्रेरक तत्व उत्सव बनते हैं। 15 अगस्त (Independence Day) भारतीय स्वाधीनता (Indian independence) का महोत्सव है।

पीएम मोदी(PM Modi) जब से प्रधानमंत्री बने हैं, तब से वो 7 बार लाल किले(Lal Qila) पर तिरंगा फहरा चुके हैं। ऐसे में वो हर बार किसी नए साफे के साथ नजर आते हैं।

आज 15 अगस्त के दिन पूरा देश स्वतंत्रा दिवस (Independence Day) मना रहा है। 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi) ने लाल किले (Red Fort) के प्राचीर से तिरंगा फहरा दिया है। इसे देखते हुए कई मार्गों में बदलाव (Road Divert) किए गए हैं।

15 अगस्त के दिन भारत (India) में स्वतंत्रता दिवस (independence day) मनाया जाता है। इसी दिन साल 1947 में देश को ब्रिटिश हुकूमत (British Rule) से आजादी मिली थी। आजादी दिलाने में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की अहम भूमिका रही थी।

भारत (India) में कल यानी 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) मनाया जायेगा। इस साल देश स्वतंत्रता दिवस की 74वीं वर्षगांठ (74th Independence Day) मनाने जा रहा है।

इस साल 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इतिहास बनने वाला है। अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में टाइम्स स्क्वायर पर पहली बार भारतीय तिरंगा झंडा लहराया जाएगा।

यह प्रतिबंध इसलिए लगाया गया है, ताकि आपराधिक, असामाजिक तत्व या आतंकवादी, सब-कन्वेंसनल एरियल प्लेटफार्म का उपयोग करके आम जनता, गणमान्य व्यक्तियों और महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा को खतरा न पहुंचा सकें।

कोरोनावायरस महामारी का असर इस साल होने वाले स्वतंत्रता दिवस समारोह पर भी पड़ता दिखाई दे रहा है। सूत्रों के अनुसार 15 अगस्त को लाल किले पर होने वाले कार्यक्रम में कई तरह की पाबंदियां होंगी।

कांग्रेस के बड़े नेता और यूपीए सरकार में वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम को भाजपा व मोदी सरकार की आलोचना के लिए जाना जाता है। इसके उलट 15 अगस्त पीएम मोदी के भाषण में शामिल तीन ऐसी बातें जिनकी तारीफ पी चिदंबरम भी करते दिखाई दिए हैं।

स्टेडियम में रंगारंग कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया। लोग अपने हाथों में तिरंगा झंडा लेकर कार्यक्रम में मौजूद रहे। अलगाववादियों को उम्मीद थी कि स्थानीय लोग आजादी के इस कार्यक्रम का विरोध करेंगे मगर स्टेडियम में आई भीड़ ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया।