26 january

इस दौरान उन्होंने सरस्वती शिशु मंदिर वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय द्वारा आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में आये छात्र छात्राओं और स्वयंसेवकों को संबोधित किया।

वर्ष 1950 में आज के ही दिन भारत का संविधान लागू हुआ था। इसे बनाने में दो वर्ष 11 माह और 18 दिन का समय लगा था। पहले गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर परेड हुई थी, और तभी से यह परंपरा जारी है।

आज पूरे देशभर में 71वां गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है। इस खास दिन के आते ही एक गर्व का एहसास होता है। देशभक्ति की भावना लेकर आने वाले यह दिन धूमधाम से मनाया जा रहा है और विशेष बात यह है कि इस मौके पर हर कोई देशभक्ति के गीत बजाता, गाता और गुनगुनाता है।

हर साल की तरह इस बार भी हम अपना गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाने के लिए तैयार हैं। इस साल हम अपना 71वां गणतंत्र दिवस सेलिब्रेट करने जा रहे हैं।

ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर मेसियस बोलसोनारो इस साल के मुख्य अतिथि हैं, जो प्रधानमंत्री के साथ भारत की समृद्ध विविधता को देखेंगे। 22 झाकियां राजपथ से होकर गुजरेंगी, उनमें से 16 राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों की होंगी, जबकि शेष छह विभिन्न मंत्रालयों से हैं।

संघ के पदाधिकारियों के अनुसार, आरएसएस प्रमुख गणतंत्र दिवस गोरखपुर में ही मनाएंगे। भागवत 26 जनवरी की सुबह झंडा फहराएंगे और इसके बाद गोरखपुर में शाखा स्तर के स्वयंसेवकों से बातचीत करेंगे।

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री जितेंद्र अवध ने दावा किया है कि इस बार गृह मंत्रालय ने गणतंत्र दिवस की परेड में महाराष्ट्र की झांकी स्वीकार नहीं किया है।

26 जनवरी यानि गणतंत्र दिवस की तैयारी जोरों से चल रही हैं। वहीं दूसरी तरफ सुरक्षा के मद्देनजर इस बार आतंक से निपटने के लिए पुलिस ने तकनीक का सहारा लिया है।

नई दिल्ली। इस बार 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) की परेड बेहद खास होने वाली है। परेड में इस बार मोदी...

नई दिल्ली। 26 जनवरी के मौके पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अतिथि बनने से इंकार करने के बाद, अब...