Aditya Thackeray

शिवसेना की तरफ से प्रियंका चतुर्वेदी को राज्यसभा का उम्मीदवार बनाए जाने की घोषणा की गई। इसके बाद प्रियंका ने अपना नामांकन दाखिल किया।

महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन की सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित होने के लिए निमंत्रण देने का काम आदित्य ठाकरे कर रहे हैं।

शिवसेना बीजेपी की तुलना में लगभग आधी सीटों पर थी मगर फिर भी ढाई साल का सीएम पद मांग रही थी। ऐसे में एनसीपी का दावा भी बनता है।

आदित्य ठाकरे ने की सिद्धिविनायक मंदिर में पूजा-अर्चना

महाराष्ट्र में सियासी घमासान जारी है। इन सब के बीच शिवसेना के साथ गठबंधन करके सत्ता पर काबिज होने को लेकर एनसीपी और कांग्रेस की तरफ से पत्ते नहीं खोले जा रहे हैं। राष्ट्रपति शासन लगने के बाद से राज्य में राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। राज्य में चुनाव नतीजों के बाद से ही राजनीतिक अस्थिरता का दौर जारी है।

शिवसेना की ओर से यह संदेश सीधा उद्धव ठाकरे ने दिया है। शिवसेना के संसदीय दल की बैठक में भी इस बात की जानकारी दी गयी है। उधर शिवसेना और एनसीपी-कांग्रेस का मामला अभी भी फंसा हुआ है।

महाराष्ट्र के मंत्री एकनाथ शिंदे को विधानसभा में शिवसेना का नेता चुन लिया गया है। बता दें, उनके नाम का प्रस्ताव पार्टी के चीफ उद्धव ठाकरे के बेटे और पार्टी विधायक आदित्य ठाकरे ने रखा। खुद ठाकरे का नाम भी इस पद के लिये चर्चा में था।

आदित्य ठाकरे का एक वीडियो और फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें दावा किया जा रहा है कि वह सीएम बनने के लिए अजमेर शरीफ में मन्नत मांगने पहुंचे।

शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे अपने बेटे आदित्य ठाकरे को सीएम बनवाने के लिए जी जान से जुट गए हैं। वे एनसीपी और कांग्रेस के संपर्क में हैं। शिवसेना लगातार इस बात के संकेत दे रही है कि वह इन दोनों ही पार्टियों का साथ लेकर महाराष्ट्र में सरकार बना सकती है।