Afganistan

रक्षा मंत्रालय ने बताया कि हमला बल्ख जिले के दाव्लत अबद के खिली गुली इलाके में अफगान नेशनल आर्मी और राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय के संयुक्त सैन्य बेस पर किया गया।

उत्तर भारत के कई स्थानों पर भूकंप के झटके महसूस किये हैं, जिसका केंद्र अफगानिस्तान का हिंदुकुश बताया जा रहा है। 5 बजकर 9 मिनट पर आए इस भूकंप के झटकों की तीव्रता 6.8 बताई जा रही है।

प्रांतीय सरकार के प्रवक्ता उमर जवाक ने हमले की पुष्टि की। उन्होंने कहा, "घटना को लेकर एक जांच शुरू की गई है और मीडिया से उचित जानकारी साझा की जाएगी।" तालिबान ने हमले की जिम्मेदारी ली है।

दोहा पहुंचने से पहले, खलीलजाद दो दिनों के लिए काबुल में थे, जिस दौरान उन्होंने अफगानिस्तान के शीर्ष सरकारी अधिकारियों और पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई सहित प्रमुख राजनेताओं के साथ बातचीत की।

लादेन की मौत के बाद उसके बेटे हमजा ने कई बार अमेरिका आतंकवादी हमले की धमकी दी थी। अब अमेरिका ने हमजा को भी मार गिराया है।

स्तावित समझौते के अनुसार, अमेरिका अफगानिस्तान से 20 सप्ताहों के अंदर 5,400 अमेरिकी सैनिक वापस बुलाएगा। हालांकि खलीलजाद ने कहा कि ट्रंप के साथ अंतिम मंजूरी अभी बाकी है।

हालांकि अभी तक किसी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। इससे 10 दिन पहले भी काबुल में बम धमाका हुआ था, जिसमें 95 लोग घायल हो गए थे। यह धमाका एक कार में किया गया था।

कश्मीर मुद्दे को लेकर अंतर्राष्ट्रीय मदद की उम्मीद कर रहे पाकिस्तान को अब तालिबान से भी झटका लगा है। तालिबान ने साफ कर दिया है कि अफगानिस्तान मुद्दे को कश्मीर से ना जोड़ा जाए।

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हवाईअड्डे के निकट बुधवार को आतंकवादियों तथा सुरक्षा बलों में मुठभेड़ हो गई। विश्वस्त सूत्रों और प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि हमले में कई लोगों के मारे जाने की आशंका है।

ये खबर उन भटके हुए युवाओं के लिए है जो राष्ट्रीय हितों के खिलाफ जाकर आतंकी संगठन आईएस में भर्ती हो रहे हैं। ऐसे ही एक भारत से भागे हुए आतंकी के अफगानिस्तान में उस वक्त परखच्चे उड़ गए जब अमेरिका ने ड्रोन से हमला कर दिया।