Afghanistan

अफगानिस्तान के नेशनल डाइरेक्टोरेट ऑफ सिक्योरिटी (एनडीएस) ने कहा है कि उसने इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत (आईएसकेपी) के खुफिया प्रमुख असदुल्लाह ओरकजई को मार गिराया है।

अफगान नागरिक निदान सिंह सचदेवा का परिवार दिल्ली में है और वह तीन महीने पहले ही अफगानिस्तान गए थे।

अफगानिस्तान के आंतरिक मंत्रालय के प्रवक्ता तारिक एरियन ने कहा कि काबुल की एक मस्जिद में बम विस्फोट होने के कारण चार लोगों की मौत हो गई है, जबकि कुछ अन्य घायल हो गए हैं।

एरियन ने पुष्टि की कि मस्जिद के मौलवी मुल्ला मोहम्मद अयाज नियाजी हमले में मारे गए दो लोगों में से एक थे। मध्य काबुल में हुए इस विस्फोट की जिम्मेदारी किसी भी समूह ने नहीं ली है, जो शहर के सबसे प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है।

तालिबान और अमेरिका एक टेबल पर आ चुके हैं और दोनों के बीच अफगानिस्तान में भविष्य को लेकर बातचीत अंतिम रूप ले रही है। लेकिन तालिबान का समर्थन करने वाला पाकिस्तान इसी संगठन के सामने अब बेबस है।

हक्कानी नेटवर्क (एचक्यूएन) पश्चिम में एक और 9/11 जैसे आतंकवादी हमले की योजना बनाने के लिए प्रतिबंधित इस्लामिक आतंकवादी समूह अल-कायदा की मदद कर रहा है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, "खलीलजाद ने गुरुवार को ट्वीट किया, "यूएसजी का मानना है कि आईएसआईएस-के ने अफगानिस्तान में इस सप्ताह की शुरुआत में मैटरनिटी (मातृत्व) वार्ड और एक अंतिम संस्कार कार्यक्रम में भयावह हमलों को अंजाम दिया है।"

अफगान प्रेसिडेंशियल पैलेस में 517 सैंपलों की जांच के बाद कम से कम 20 कर्मचारियों को कोरोनावायरस पॉजिटिव पाया गया। इसकी जानकारी एक मीडिया रिपोर्ट से हुई।

कोरोनावायरस संक्रमण के बढ़ते खतरों के बीच दक्षिण पूर्वी दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात के मरकज से दस से अधिक देशों के नागरिकों समेत 200 लोगों को यहां के अलग-अलग अस्पतालों में जांच के लिए ले जाया गया है।

अमेरिका और तालिबान के बीच अफगानिस्तान में एक हफ्ते की जंगबंदी पर सहमति हो गई है। पाकिस्तानी मीडिया में अमेरिकी रक्षा विभाग के मुख्यालय पेंटागन की तरफ से जारी एक बयान के हवाले से यह जानकारी दी गई है।