ajit pawar

एसीबी ने साफ कर दिया है कि जो 9 मामलों की जांच बंद की गई है उससे अजित पवार का कोई संबंध नहीं है। इसके साथ ही एसीबी ने अपने पत्र में ये भी लिखा है कि, अन्य 24 मामलों की जांच जारी है।

एसीबी ने 70,000 करोड़ रुपए के सिंचाई घोटाले में अजित पवार को क्‍लीनचिट दी है। राज्य सरकार के सूत्रों की मानें तो जिन मामलों में अजित पवार को क्लीन चिट दी गई हैं इन मामलों से उनका संबंध नहीं है।

शरद पवार और अजीत पवार के बीच विधायकों को लेकर रस्साकशी तेज हो गई है। एनसीपी के जो एमएलए मुंबई के बाहर थे, उनको वापस लाया जा रहा है। एनसीपी के नेताओं ने गुड़गांव से दो एमएलए को मुंबई वापस भेज दिया है। इन्हें रातों-रात मुंबई भेजा गया।

शिवसेना और एनसीपी के विधायकों को जिन द ललित और रेनिंसन्स होटल में रखा गया था, उनके बीच काफी फासला है। इसलिए दोनों ही पार्टी के विधायकों को आसपास के होटल में रखा जा रहा है।

अजित पवार ने ट्वीट करते हुए कहा कि मैं अभी भी एनसीपी में हूं, और हमेशा रहूंगा, और शरद पवार हमारे लीडर हैं। अजित पवार ने कहा कि हमारा भाजपा-एनसीपी गठबंधन अगले पांच वर्षों के लिए महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार प्रदान करेगा।

इसके अलावा उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा कि- 'मैं एनसीपी में हूं और हमेशा एनसीपी में रहूंगा और शरद पवार साहब हमारे नेता हैं। हमारा भाजपा-राकांपा गठबंधन अगले पांच वर्षों के लिए महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार प्रदान करेगा जो राज्य और इसके लोगों के कल्याण के लिए ईमानदारी से काम करेगी।'

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने वाईबी सेंटर में विधायकों के साथ बैठक में अजित पवार को विधायक दल के नेता पद से हटा दिया। जयंत पाटिल को विधायक दल का नया नेता चुना गया है।

महाराष्ट्र में भाजपा-एनसीपी गठबंधन की सरकार का गठन आज सुबह हो गया है। अब भाजपा-एनसीपी गठबंधन को फ्लोर टेस्ट से गुजरना पड़ेगा।

शुक्रवार रात 11.45 बजे से शनिवार सुबह नौ बजे तक अजीत फडणवीस के साथ रुके और शपथ ग्रहण से पहले उन्हें नहीं जाना था।

महाराष्ट्र में शिवसेना के सपने में कौन बना खलनायक? जानिए एक रात में कैसे पलटा खेल?