Amit Shah

कोरोनावायरस की वजह से दुनियाभर के तमाम देश बेहाल है, भारत में इसके मरीजों की संख्या तेजी के साथ बढ़ती जा रही है।

दिल्ली में कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा 62 हजार को पार कर गया है। इस बीमारी की चपेट में आकर 2233 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, 36 हजार से अधिक मरीज ठीक हो चुके हैं।

इस रथयात्रा को इजाजत मिलने के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने लोगों को बधाई दी है और कहा कि, सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पूरा देश प्रसन्न है।

सोमवार को गृह मंत्रालय में भारत चीन बॉर्डर मैनेजमेंट को लेकर एक बड़ी बैठक हुई। जिसमें तय किया गया है कि चीन सीमा पर बनाई जा रही सड़कों में तेजी लाने का किया जाएगा।

पूरे देश समेत दिल्ली-एनसीआर में कोरोना के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। ऐसे में अब केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कमान अपने हाथ में ले ली है। आज गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल और एनसीआर जिलों के डीएम, डीसी के साथ बैठक की। इस बैठक में गृहमंत्री ने सभी को स्पष्ट निर्देश दिया कि कोरोनावायरस के खिलाफ जंग में एनसीआर बतौर एक यूनिट होकर लड़ेगा न कि अलग-अलग जिले या अलग अलग राज्य के रूप में।

आपको बता दें कि भारत-चीन की सीमा पर जवानों की शहादत पर देश में जो माहौल बना है उसको लेकर विदेश मंत्री एस जयशंकर पीएम मोदी के आवास पर मुलाकात करने पहुंचे।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने आईएएस अधिकारियों- अवनीश कुमार और मोनिका प्रियदर्शिनी, गौरव सिंह राजावत और विक्रम सिंह मलिक के COVID-19 के प्रबंधन में सहायता करने के लिए तुरंत दिल्ली में तबादले का निर्देश दिया है।

दिल्ली में बेड की कमी को देखते हुए केंद्र की मोदी सरकार ने तुरंत 500 रेलवे कोच दिल्ली को देने का निर्णय लिया है।

रविवार, सुबह 11 बजे होने वाली इस बैठक में दिल्ली के हालात पर चर्चा होगी। इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया, दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल सहित गृह मंत्रालय के दूसरे अधिकारी शामिल रहेंगे।

अनलॉक-1 में दी जानेवाली रियायतों को लेकर नियमों और दिशा-निर्देशों में गुरुवार को नए बदलाव किए गए थे। इसको लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र के जरिए निर्देश दिया था।