Anti CAA protests

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सीएए विरोधी प्रदर्शकारियों के लगाए गए वसूली के पोस्टर पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है और इस मामले को बड़ी बेंच के पास भेज दिया है।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ओखला से आईएस को दो संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया है। दोनों पति और पत्नी हैं बताया जा रहा कि दोनों संदिग्ध आईएसकेपी नाम के संगठन से जुड़े हुए हैं।

सूत्रों का कहना है कि आवेदन के प्रारूप में बदलाव के बाद अप्रैल-मई से पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए हुए प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता मिल सकेगी। हालांकि यहा बताना जरूरी है कि गृह मंत्रालय 20 दिसंबर 2019 को पाकिस्तान से आए सात शरणार्थियों को नागरिकता देकर अधिनियम को प्रतीकात्मक रूप से लागू कर चुका है।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को यहां कहा कि जनता के हर सुख-दुख में साथ रहने वाली दिल्ली पुलिस को कभी दुखी नहीं रहने दिया जाएगा, और केंद्र सरकार ने करीब 225 करोड़ रुपये का बजट पास करके दिल्ली पुलिस कर्मियों के आशियाने के इंतजाम को अंतिम रूप दे दिया है।

नई दिल्ली। नागरिकता कानून को लेकर देशभर में हो रहे विरोध के बीच कांग्रेस की तरफ से भी दिल्ली में...

राजघाट पर सोनिया गांधी व राहुल गांधी के साथ कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा,  पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आज़ाद, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, राज्यसभा सांसद अहमद पटेल और आनंद शर्मा नागरिकता संशोधन कानून आंदोलन और NRC के विरोध में प्रदर्शन करते दिखाई दिए।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को विरोध प्रदर्शन से पहले युवाओं के नाम एक ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह पर प्रहार किया।

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शुक्रवार को दिल्ली की जामा मस्जिद के बाहर प्रदर्शनकारियों का जमावड़ा लगा हुआ है। इस मौके पर भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद भी वहां मौजूद हैं।

प्रियंका गांधी ने कहा कि मेट्रो स्टेशन बंद हैं। इंटरनेट बंद है। हर जगह धारा 144 लागू की गई है। किसी भी जगह आवाज उठाने की इजाजत नहीं है, जिन्होंने आज टैक्सपेयर्स का पैसा खर्च करके करोड़ों का विज्ञापन लोगों को समझाने के लिए निकाला है

सोनाक्षी सिन्हा और ईशान खट्टर के बाद आलिया भट्ट भी उन बॉलीवुड सितारों में शामिल हो गई हैं, जिन्होंने हाल ही में संविधान प्रस्तावना की एक तस्वीर साझा की है और यह उनका नागरिकता(संशोधन) अधिनियम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे राष्ट्रव्यापी विद्यार्थियों के साथ एकजुटता का एक प्रतीक है।